DA Image
26 नवंबर, 2020|7:35|IST

अगली स्टोरी

हाईटेक हुआ किसान, मोबाइल पर देख रहा गन्ना पर्ची का मैसेज

default image

जिले के किसान हाईटेक हो गए हैं। मोबाइल पर गन्ना पर्ची का मैसेज देख रहे हैं। जिले की चीनी मिल किसानों को गन्ना पर्ची नहीं उनके मोबाइल पर एसएमएस भेज रही है। चीनी मिल चलने से पहले ही गन्ना विभाग ने करीब 379000 किसानों के मोबाइल अपडेट कर लिए हैं।

जिले में पहली बार किसानों को मिल गेट और सेंटरों पर गन्ना बेचने के लिए पर्ची नहीं मिल रही है। पर्ची के स्थान पर किसानों को उनके मोबाइल पर एसएमएस भेजे जा रहे हैं। जिले में जो चीनी मिल चल गई है उन्होंने किसानों को गन्ना बेचने के लिए उनके मोबाइल पर एसएमएस भेज दिए हैं।

जिले में 3,79,000 किसानों के मोबाइल नम्बर अपडेट किए गए। जिले में एक भी किसान को गन्ना तौलने के लिए गन्ना पर्ची नहीं मिलेगी। गन्ना विभाग के अफसरों के निर्देश पर सुपरवाईजरों ने एक-एक किसान को फोन कर उनके मोबाइल नम्बर अपडेट किए हैं। किसान भी आसानी से अपने मोबाइल पर आए एसएमएस को देखकर गन्ना तौलने का मन बना चुका है। वहीं गन्ना विभाग के अफसरों का दावा है कि इसे लेकर किसानों को कोई परेशानी नहीं होने दी जाएगी। बतादें कि कुछ किसान संगठन चाह रहे थे कि किसानों को पहले की तरह गन्ना पर्ची मिले। किसानों को उनके मोबाइल पर एसएमएस ना भेजा जाए। इसे लेकर किसानों ने आंदोलन किए। धरने प्रदर्शन किए। विभागीय अफसरों का कहना है कि किसानों को परेशानी नहीं होने दी जाएगी। सेंटरों पर किसानों को इंडेंट की स्लिप भी भेजी जाएगी। जिससे किसानों को राहत मिलेगी।

- चीनी मिल चलने से पहले ही करीब 379000 किसानों के मोबाइल नम्बर अपडेट कर लिए गए हैं। किसानों को गन्ना पर्ची नहीं उनके मोबाइल पर गन्ना तौलने के लिए एसएमएस भेजे जा रहे हैं। किसानों को किसी तरह की कोई परेशानी नहीं होने दी जाएगी। एसएमएस को लेकर किसानों को कोई परेशानी भी नहीं होगी।जो चीनी मिल चल गई है। वह भी किसानों को उनके मोबाइल पर एसएमएस भेज रही है।

- विकल भारती, अपर सांख्यिकी अधिकारी गन्ना, बिजनौर

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:High-tech farmer looking at the message of sugarcane slip on mobile