DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › बिजनौर › जनपद के ग्रामीण क्षेत्रों में पिछले दो साल से नही लगे हैंडपंप
बिजनौर

जनपद के ग्रामीण क्षेत्रों में पिछले दो साल से नही लगे हैंडपंप

हिन्दुस्तान टीम,बिजनौरPublished By: Newswrap
Sun, 26 Sep 2021 10:20 PM
जनपद के ग्रामीण क्षेत्रों में पिछले दो साल से नही लगे हैंडपंप

ग्रामीण पाइप पेय जल योजना को बढ़ावा देने और शासन की उदासीनता के कारण जनपद के ग्रामीण क्षेत्रों में पिछले दो साल से एक भी इंडिया मार्का हैंडपंप नहीं लग पाया है। ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले लोगों को पेयजल उपलब्ध होने में परेशानी उठानी पड़ रही है। जल निगम ने कई बार प्रस्ताव भी भेजा, पर हैंडपंप नहीं मिला पाये।

उत्तर प्रदेश सरकार ने ग्रामीण क्षेत्रों की जनता को स्वच्छ पेयजल उपलब्ध कराने के लिए ग्रामीण पाइप पेय जल योजना शुरू की थी। इसके अंर्तगत ओवर हैड टैंक के माध्यम से पेयजल आपूर्ति होनी है, लेकिन यह योजना सही ढंग से परवान नहीं चढ़ पाई। इसके चलते ग्रामीण को पेयजल के लिए परेशानी झेलनी पड़ रही है। विभाग के आंकड़ों के अनुसार पिछले दो वर्ष में जनपद के ग्रामीण क्षेत्रों एक भी इंडिया मार्का हैंडपंप नहीं लग पाया है। जिला योजना समिति की बैठक में विभाग की ओर से वर्ष 2019-20 में 1100 इंडिया मार्का हैंडपंप की मांग की गई थी, लेकिन एक भी हैंडपंप नहीं मिल पाया। वर्ष 2019-20 में हैंडपंप नही मिलने के चलते 2020-21 की जिला योजना समिति की बैठक में प्रस्ताव ही नही रखा गया।

माननीय भी अपने क्षेत्रों में नहीं लगवा पाए हैंडपंप

प्रदेश में विधानसभा चुनाव का विगुल फुंक चुका है। इसके चलते विधायक अपने क्षेत्र की जनता को नाराज नहीं करना चाहते। जनपद के विधायकों ने शासन से विधानसभा के ग्रामीण क्षेत्रों के लिए हैंडपंप की कई बार मांग की है, लेकिन उनको भी नहीं मिल पाया। कई विधायकों ने मुख्यमंत्री से भी इस संबंध में वार्ता की है।

एक हैंडपंप पर आता है 70 से 80 हजार का खर्चा

विभाग के मुताबिक एक इंडिया मार्का हैंडपंप लगाने में करीब 70 से 80 हजार का खर्चा आता है।

33 योजनाओं पर शुरू किया गया है कम

ग्रामीण पाइप पेयजल योजना के शुरू होने के बाद जनपद के ग्रामीण क्षेत्रों में करीब 33 योजनाओं का कार्य शुरू हो गया है। जिसको समय अवधि में पूरा कर लिया जायेगा।

वर्ष कितने हैंडपंप लगे

2017-18 848

2018-19 923

2019-20 00

2020-21 00

सरकार ने ग्रामीण क्षेत्रों में स्वच्छ पेयजल के लिए ग्रामीण पाइप पेयजल योजना शुरू की है। इसके चलते शासन ने अब ग्रामीण क्षेत्रों के लिए इंडिया मार्का हैंडपंप देने बंद कर दिए हैं। पिछले दो साल कोई हैंडपंप नहीं लगा पाया है।

- भारत सिंह, अधिशासी अभियंता, जल निगम

संबंधित खबरें