DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  बिजनौर  ›  ईएनटी सर्जन है नहीं, ब्लैक फंगस के मरीज ढूंढने को सिर्फ नेत्र विभाग का सहारा

बिजनौरईएनटी सर्जन है नहीं, ब्लैक फंगस के मरीज ढूंढने को सिर्फ नेत्र विभाग का सहारा

हिन्दुस्तान टीम,बिजनौरPublished By: Newswrap
Mon, 24 May 2021 09:40 PM
ईएनटी सर्जन है नहीं, ब्लैक फंगस के मरीज ढूंढने को सिर्फ नेत्र विभाग का सहारा

शासन ने सभी जिला अस्पतालों में ब्लैक फंगस के संक्रमण के मद्देनजर रोजाना दो घंटे ईएनटी सर्जन व नेत्र विभाग की ओपीडी के निर्देश तो दे दिए, लेकिन बिजनौर जिला अस्पताल में ईएनटी सर्जन हे ही नहीं। इसके चलते यहां सोमवार को मात्र नेत्र विभाग की ओपीडी ही चालू हुई।

कार्यवाहक सीएमएस एवं नेत्र सर्जन डा. मनोज कुमार सेन ने सोमवार प्रात: 10 बजे से 12 बजे तक ओपीडी में बैठकर स्वयं मरीज देखे। उन्होंने बताया, कि पहले दिन तीन चार ही मरीज आए और वे भी ऐसे थे, जिन्हें पहले कोरोना हो चुका था और शंकावश आए थे, लेकिन इनमें कोई ब्लैक फंगस का संदिग्ध रोगी नहीं पाया गया। ईएनटी की ओपीडी शुरू न होने के सवाल पर उनका कहना था, कि यहां ईएनटी सर्जन का पद खाली चलने के कारण ईएनटी की ओपीडी शुरू नहीं हो सकी। खाली पदों की जानकारी शासन को नियमित रिपोर्ट में भेजी जाती रही है। उन्होंने स्वीकार किया, कि जांच के लिए ईएनटी सर्जन का होना भी जरूरी है। गौरतलब है, कि अपर मुख्य सचिव, चिकित्सा, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग, उत्तर प्रदेश शासन की ओर से 22 मई को जारी निर्देशों के अनुसार ब्लैक फंगस के मद्देनजर जिला अस्पतालों में प्रात: 10 बजे से 12 बजे तक नेत्र रोग तथा ईएनटी की कोविड प्रोटोकाल के साथ ओपीडी होगी, ताकि ब्लैक फंगस के रोगियों की शीघ्र पहचान करते हुए इलाज शुरू कराया जा सके।

संबंधित खबरें