DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कर्ज में दबे दंपति ने दो बच्चों के साथ पी लिया कीटनाशक

कर्ज में दबे दंपति ने दो बच्चों के साथ पी लिया कीटनाशक

1 / 4नजीबाबाद के मोहल्ला दरूदग्रान में एक व्यक्ति ने पत्नी और दो बच्चों के साथ कीटनाशक पीकर जीवनलीला समाप्त करने की कोशिश की। आर्थिक स्थिति खराब होने के कारण कर्ज के बोझ में दबे होने से परिवार को ऐसा कदम...

कर्ज में दबे दंपति ने दो बच्चों के साथ पी लिया कीटनाशक

2 / 4नजीबाबाद के मोहल्ला दरूदग्रान में एक व्यक्ति ने पत्नी और दो बच्चों के साथ कीटनाशक पीकर जीवनलीला समाप्त करने की कोशिश की। आर्थिक स्थिति खराब होने के कारण कर्ज के बोझ में दबे होने से परिवार को ऐसा कदम...

कर्ज में दबे दंपति ने दो बच्चों के साथ पी लिया कीटनाशक

3 / 4नजीबाबाद के मोहल्ला दरूदग्रान में एक व्यक्ति ने पत्नी और दो बच्चों के साथ कीटनाशक पीकर जीवनलीला समाप्त करने की कोशिश की। आर्थिक स्थिति खराब होने के कारण कर्ज के बोझ में दबे होने से परिवार को ऐसा कदम...

कर्ज में दबे दंपति ने दो बच्चों के साथ पी लिया कीटनाशक

4 / 4नजीबाबाद के मोहल्ला दरूदग्रान में एक व्यक्ति ने पत्नी और दो बच्चों के साथ कीटनाशक पीकर जीवनलीला समाप्त करने की कोशिश की। आर्थिक स्थिति खराब होने के कारण कर्ज के बोझ में दबे होने से परिवार को ऐसा कदम...

PreviousNext

नजीबाबाद के मोहल्ला दरूदग्रान में एक व्यक्ति ने पत्नी और दो बच्चों के साथ कीटनाशक पीकर जीवनलीला समाप्त करने की कोशिश की। आर्थिक स्थिति खराब होने के कारण कर्ज के बोझ में दबे होने से परिवार को ऐसा कदम उठाने के लिए मजबूर होना पड़ा। निजी अस्पताल में भर्ती चारों की हालत गंभीर बनी हुई है।

नजीबाबाद के दरूदग्रान मोहल्ले में मुजफ्फरनगर के सिसौली निवासी विनय कुमार, पत्नी गीता, पुत्री शिवांगी व पुत्र युवराज के साथ रामकुमार के मकान में किराए पर रहता है। यह परिवार नजीबाबाद में लगभग छह साल से रह रहा है। विनय झोलाछाप है और पूजा अस्पताल के सामने लक्की डेंटल के नाम से दुकान चलाता है।

सोमवार देर रात विनय के पड़ोसी किराएदार ने उल्टियां करने की आवाज सुनी तो उसने बाहर आकर देखा कि विनय, उसकी पत्नी और बच्चों ने कीटनाशक पी लिया है, जिससे वह उल्टियां कर रहे हैं। पड़ोसी ने तुरंत मकान मालिक को मामले की जानकारी दी। मकान मालिक ने पुलिस को फोन कर दिया। मौके पर पहुंची पुलिस ने नजीबाबाद के पूजा अस्पताल में सभी को भर्ती कराया, जहां से गंभीर हालत के चलते चारों को जिला अस्पताल रेफर कर दिया गया। बाद में उन्हें फिर एक अन्य निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया।

सूचना पर पहुंचे रिश्तेदारों के अनुसार विनय का काफी समय से काम ठीक नहीं चल रहा था, जिस कारण लोगों और बैंक का कर्ज भी था। लगातार हो रहे तकादों से वह परेशान था। जो दुकान वह चलाता था, उसका भी किराया न चुका पाने के कारण मालिक ने तीन दिन पहले उसमें ताला डाल दिया था। कर्ज में दबे होने के कारण ही परिवार ने जान देने की कोशिश की है।

कमरे में मिलीं कीटनाशक की दो शीशियां

सुबह जब तहसीलदार मौके पर जांच के लिए पहुंचे तो देखा कि कमरे में एक मेज पर दो कीटनाशक दवाई की शीशी रखी हुई थीं। इसी कीटनाशक का सेवन करने से चारों की हालत बिगड़ी थी।

कोट.....

सुबह लगभग तीन बजे मकान मालिक रामकुमार ने पुलिस को मामले की सूचना दी। पुलिस ने चारों को निजी अस्पताल में भर्ती कराया। हालत बिगड़ते देख सभी को बिजनौर के एक अस्पताल में रेफर कर दिया गया। विनय पर बैंक का लगभग चार लाख रुपये का कर्ज है काफी कर्ज उतार दिया गया, लेकिन फिर भी आर्थिक तंगी से जूझ रहे परिवार ने यह कदम उठाया।

महेश कुमार, पुलिस क्षेत्राधिकारी नजीबाबाद

.....

विनय पर व्यक्तिगत कर्ज के अलावा बैंक का कर्ज होने की जानकारी मिली है, हालांकि राजस्व सम्बंधी रिकॉर्ड में कर्ज की कोई जानकारी नहीं है।

राधेश्याम शर्मा, तहसीलदार नजीबाबाद

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Couple in debt drank pesticide with two children