DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  बिजनौर  ›  स्नातक में प्रवेश के लिए शासन के दिशा निर्देशों की महाविद्यालयों को प्रतीक्षा
बिजनौर

स्नातक में प्रवेश के लिए शासन के दिशा निर्देशों की महाविद्यालयों को प्रतीक्षा

हिन्दुस्तान टीम,बिजनौरPublished By: Newswrap
Mon, 14 Jun 2021 10:11 PM
स्नातक में प्रवेश के लिए शासन के दिशा निर्देशों की महाविद्यालयों को प्रतीक्षा

कोरोना के चलते इंटरमीडिएट के छात्रों को प्रोन्नत करने का निर्णय लिया गया है। डिग्री कालेजों में स्नातक में मैरिट के आधार पर छात्रों को प्रवेश दिया जाता है। ऐसे में डिग्री कालेजों द्वारा कैसे छात्रों को दाखिला दिया जाएगा। इसे लेकर डिग्री कालेजों के प्रोफेसर से बात की गई तो उन्होंने कुछ इस तरह से अपनी प्रतिक्रिया दी...

स्नातक कक्षाओं में प्रवेश लेने के लिए इंटरमीडिएट की परीक्षा में उत्तीर्ण अधिकांश छात्र एवं छात्राएं प्रवेश के लिए प्रयत्नशील दिखाई दे रहे हैं। इसीलिए इन छात्रों ने महाविद्यालयों से सम्पर्क करना शुरू कर दिया है। ऐसी स्थिति में मैरिट लिस्ट का निर्धारण करना महाविद्यालयों के लिए एक समस्या है। सम्भवतः महाविद्यालय अपनी आंतरिक परीक्षा अथवा मौखिक आंतरिक परीक्षा के माध्यम से वरीयता सूची पर विचार कर सकते हैं। इसके अतिरिक्त शासन के निर्णय की भी इन संस्थाओं को प्रतीक्षा है।

- डॉ जीआर गुप्ता, पूर्व प्राचार्य वर्धमान डिग्री कालेज

महाविद्यालय में छात्र, छात्राओं के लिए प्रवेश के लिए सम्पर्क प्रारम्भ हो चुका है। परन्तु इंटरमीडिएट द्वारा अभी अंक तालिका उपलब्ध न होने के कारण छात्रों द्वारा आवेदन एवं महाविद्यालय द्वारा वरीयता सूची का निर्धारत एक समस्या बना हुआ है। शासन के नीति निर्धारण की प्रतीक्षा है।

-डॉ नीलम गुप्ता, प्रवक्ता वर्धमान डिग्री कालेज।

शासन द्वारा इंटरमीडिएट छात्र, छात्राओं को प्रोन्नत किया गया है। शत प्रतिशत परिणाम होने के कारण स्नातक स्तरीय पाठयक्रमों में प्रवेश के लिए काफी जददोजहद रहेगी। स्नातक में प्रवेश के लिए मैरिट के मापदंडों पर अभी कोई प्रभावकारी दिशा निर्देश शासन द्वारा प्राप्त नहीं है।

- डॉ. विदित कुमार, प्रबंधक, एमडी कालेज ऑफ हायर एजुकेशन

विश्वविद्यालय पोर्टल पर प्रवेश पाने वाले प्रत्येक छात्र को अपना रजिस्टेªशन कराना अनिवार्य होता है। उस रजिस्टेªेशन के आधार पर विश्वविद्यालय छात्र की च्वाइस के अनुसार प्रवेश के लिए कालेज आवंटित करता है। इस वर्ष अभी शासन स्तर से स्नातक में दाखिले को लेकर कोई गाइडलाइन नहीं मिली है। इसलिए अभी कुछ कहना मुश्किल है। उम्मीद है कि पूर्व की भांति इस बार भी रजिस्टेªशन प्रक्रिया के आधार पर ही प्रवेश हो सकते हैं।

- पवन कुमार, प्रबंध निदेशक, कृष्णा कालेज

अर्द्धवार्षिक परीक्षा और आंतरिक मूल्यांकन के आधार पर छात्रों की मैरिट बनेगी। उसी के आधार पर महाविद्यालयों में मैरिट बनेगी। स्नातक में प्रवेश को लेकर कोई विशेष बदलाव नहीं होगा। कुछ विश्वविद्यालय अपनी लिखित प्रवेश परीक्षा भी करा सकते हैं। उसके आधार पर प्रवेश सुनिश्चित किए जाएंगे।

- अजय कुमार सिंह राणा, प्रोफेसर, वर्धमान डिग्री कालेज

संबंधित खबरें