अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बिजनौर हादसा: तो कर्मचारियों को हो गया था ब्लास्ट का आभास

बिजनौर हादसा: तो कर्मचारियों को हो गया था ब्लास्ट का आभास

फैक्ट्री में मीथेन गैस का टैंक बुधवार को फटा। हादसा होने का आभास एक कर्मचारी को पहले ही हो गया था। जिसके चलते उसने ड्यूटी जाने से इनकार किया लेकिन, बाद में चला गया। बुधवार को टैंक ब्लास्ट के बाद गायब हुए अलावलपुर निवासी अभयराम के परिजन फैक्ट्री पहुंचे। इन्होंने बताया कि बुधवार को अभयराम ड्यूटी आने से इनकार कर रहा था। अभयराम ने बताया था कि टैंक की मरम्मत की जानी है जो कि, खतरे से खाली नहीं है। बाद में अभयराम ड्यूटी चला गया। ड्यूटी पर पहुंचते ही टैंक की छत पर दूसरे साथियों के साथ चढ़ गया। टैंक की छत उड़ी तो इसमें छह कर्मचारियों की मौत हो गई। वहीं शाम सात बजे तक अभयराम का कहीं पता नहीं चल सका था। मीथेन गैस भरी होने के कारण कर्मचारी भी खतरा महसूस कर रहे थे लेकिन, अधिकारियों के आदेश के आगे उनकी नहीं चली। नौकरी बचाने के चक्कर में मौत के मुंह में जाकर कर्मचारियों को काम करना पड़ा। -----------------------डीएम और एसपी का किया घेरावबिजनौर। टैंक में ब्लास्ट से छह लोगों की मौत हो गई जबकि, एक गायब हुआ। वहीं तीन कर्मचारी घायल हुए। मृतकों और घायलों के परिजन हादसे के बाद फैक्ट्री पहुंच गए। उधर डीएम अटल कुमार राय और एसपी उमेश कुमार सिंह भी इस दौरान फैक्ट्री पहुंचकर मौका मुआयना कर रहे थे। इन्होंने गुस्साई भीड़ को समझाने का प्रयास किया। लोगों ने डीएम और एसपी का घेराव कर कड़ी कार्रवाई करने की मांग उठाई। गुस्साई भीड़ फैक्ट्री मालिक को गिरफ्तार करने की जिद पर अड़ी थी। एसपी ने फैक्ट्री मालिक कुलदीप जैन को फोन कर सबके सामने यह तक कहा, कि उनकी फैक्ट्री में इतना बड़ा हादसा होने पर भी वह या उनके जिम्मेदार अधिकारी यहां मौजूद नहीं हैं। वह खुद वहां पहुंच जाएं अन्यथा उनके खिलाफ कार्रवाई कर जेल भेजने से भी वह पीछे नहीं हटेंगे। इसके बावजूद दिन भर फैक्ट्री मालिक मौके पर नहीं पहुंचे। आक्रोशित कर्मचारियों ने यह आरोप भी लगाया, कि मिल मालिकों के इशारे पर एंट्री रजिस्टर से आज का पन्ना ही फाड़ दिया गया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:bijnor blaSt So the staff was blasted