DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › बिजनौर › स्थलीय जांच बिना आय प्रमाण पत्र निरस्त करने का आरोप
बिजनौर

स्थलीय जांच बिना आय प्रमाण पत्र निरस्त करने का आरोप

हिन्दुस्तान टीम,बिजनौरPublished By: Newswrap
Sat, 31 Jul 2021 06:20 PM
स्थलीय जांच बिना आय प्रमाण पत्र निरस्त करने का आरोप

ग्राम देवेन्द्र नगर कौड़िया निवासी एक व्यक्ति ने मुख्यमंत्री को पत्र भेजकर बिना जांच किए आय प्रमाण पत्र निरस्त करने का आरोप लगाया है। पात्रता के आधार पर पुन: आय प्रमाण पत्र जारी करने का अनुरोध किया है।

ग्राम देवेन्द्र नगर कोड़िया निवासी नंदलाल धनगर ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री को शिकायती पत्र भेजते हुए बिना स्थलीय जांच के आय प्रमाणपत्र को निरस्त करने का आरोप लगाया है। उन्होंने अधिकारियों को पात्रता के आधार पर पुन: आय प्रमाण पत्र जारी कराने के निर्देश देने की गुहार लगायी है। मुख्यमंत्री को भेजे पत्र में नन्दलाल धनगर ने बताया कि प्राथी की पत्नी 21 नवम्बर 2020 से फालिश (पेरालाइसिस) की बीमारी से ग्रस्त है। जिसकी तीमारदारी व इलाज के लिए 21 मई 2021 को एसडीएम नजीबाबाद के नेतृत्व में तहसील प्रशासन ने तीन दिन के भोजन व आवश्यक सामग्री की मदद भी दी थी। प्राथी के आवेदन पर डीएम ने समाज कल्याण अधिकारी को नन्दलाल धनगर की बेटी के अनुदान के लिए आर्थिक सहायता की अग्रिम कार्यवाही सुनिश्चित करने के निर्देश दिए थे। आरोप है कि सम्बन्धित अधिकारी ने बिना स्थलीय जांच किए शादी अनुदान योजना में बिना अपेक्षित धनराशि का आय प्रमाण पत्र जारी कर दिया। जिससे प्रार्थी आर्थिक सहायता लाभ से वंचित रह गया है। नन्दलाल धनगर ने बताया कि उसके पास न ही कोई कृषि भूमि है और न ही सरकारी नौकरी, पिछले आठ महीनो से मजदूरी भी नहीं कर पा रहा है। नन्दलाल धनगर ने मुख्यमंत्री से इस सम्बन्ध में स्थानीय अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश जारी कर उसका नाम पात्रता सूची में दर्ज कराते हुए पुन: आय प्रमाण पत्र जारी कराने की गुहार लगायी है।

संबंधित खबरें