DA Image
9 अगस्त, 2020|7:51|IST

अगली स्टोरी

दाखिलों को पहले होती थी मारामारी, इस बार स्कूल पड़े खाली

default image

बिजनौर। संवाददातासीबीएसई स्कूलों में जहां अप्रैल में शिक्षासत्र शुरु होते ही एडमिशन का जोर हो जाता था, मई तक प्रक्रिया पूरी कर अधिकांश स्कूलों में नो एडमिशन के बोर्ड लग जाते थे, लेकिन कोराना काल में जुलाई माह खत्म होने को है, लेकिन स्कूलों में एडमिशन नहीं है। स्कूल एडिमशन के लिए बच्चों का इंतजार कर रहे है। स्कूल खाली पड़े है।जुलाई माह खत्म होने जा रहा है।

सीबीएसई स्कूलों में दाखिले होने के बाद तिमाही परीक्षाएं आयोजित हो जाती थी। लेकिन इस बार कोरोना के कहर ने सब कुछ बदल कर रख दिया है। सीबीएसई स्कूलों में नए दाखिले बहुत कम हो रहे हैं। हालात ऐसे है कि ऑनलाइन क्लास तो चल रही है लेकिन अभिभावक फीस तक नहीं दे रहे हैं। नए दाखिलों को लेकर सीबीएसई स्कूलों में पड़ताल की गई तो स्थिति कुछ इस तरह सामने आई

बीएसडी पब्लिक स्कूल स्कूल के प्रधानाचार्य विनय चौधरी ने बताया कि इस समय स्कूलों में नए दाखिले ना के बराबर है। अभिभावक अभी इंतजार में है कि स्थिति सुधरे तो दाखिले कराए। ऑनलाइन शिक्षा दी जा रही है लेकिन फीस नहीं आ रही है।

केएस चिल्‍ड्रन एकेडमी प्रधानाचार्य इन्द्रपाल सिंह ने बताया कि इस बार दाखिले बहुत कम हो रहे हैं। ऑनलाइन क्लास चल रही है और अभिभावकों फीस जमा नहीं कर रहे हैं। इस बार स्कूलों में नए प्रवेश बहुत कम हुए है। नर्सरी, प्रथम, कक्षा 6, कक्षा 9 और कक्षा 11 में नाममात्र ही दाखिले हुए है। माउंट लिट्रा जी स्कूल प्रधानाचार्य अनुपम शर्मा ने बताया कि पुरानी फीस नहीं आ रही है और नए दाखिले नहीं हो रहे हैं। अगर सबकुछ ठीक चलता तो इस समय तक दाखिले हो गए होते। अब तक सभी सीट फुल हो जाती।

हालात ऐसे है कि ऑनलाइन शिक्षा से बच्चे कम जुड़ पा रहे हैं। अभिभावक फीस तक देने को तैयार नहीं है।एएन इंटरनेशनल स्कूलप्रधानाचार्य डॉ सरजीत सिंह ने बताया कि इस बार छात्र, छात्राओं के नए दाखिले बहुत कम हो रहे हैं। नए दाखिले अप्रैल में हो जाते थे। इस बार नए दाखिले बहुत कम हो रहे हैं। फीस तक नहीं आ रही है जबकि ऑनलाइन क्लास लगातार चल रही है। मॉर्डन ऐरा पब्लिक स्कूल मंडावर के प्रधानाचार्य डॉ संजीव कुमार राठी ने बताया कि इस बार स्कूलों में नए प्रवेश ना के समान है।

ज्यादातर प्रवेश नर्सरी में होते थे लेकिन इस बार कोरोना के डर के वजह से अभिभावक दाखिले नहीं करा रहे हैं। वहीं फीस भी नहीं आ रही है। कोरोना ना होता तो सभी सीट भर गई होती।एचएम पब्लिक स्कूल चेयरमैन अशोक चौधरी ने बताया कि इस बार सीबीएसई स्कूलों में दाखिले नहीं है। अभिभावक ना तो नए दाखिले कराने आ रहे हैं और ना ही फीस जमा करने विद्यालय आ रहे हैं। अभी दाखिले होने की कोई उम्मीद नजर नहीं आ रही है। ऑनलाइन क्लास में भी बच्चे कम जुड़ रहे हैं।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Admissions used to be fierce before this time the school is empty