ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशहवा संग हुई बरसात, बच्चों के प्रति रहें सावधान

हवा संग हुई बरसात, बच्चों के प्रति रहें सावधान

ज्ञानपुर, संवाददाता। कालीन नगरी में शनिवार की शाम तेज हवा संग बारिश ने...

ज्ञानपुर, संवाददाता। 
 कालीन नगरी में शनिवार की शाम तेज हवा संग बारिश ने...
1/ 2ज्ञानपुर, संवाददाता। कालीन नगरी में शनिवार की शाम तेज हवा संग बारिश ने...
ज्ञानपुर, संवाददाता। 
 कालीन नगरी में शनिवार की शाम तेज हवा संग बारिश ने...
2/ 2ज्ञानपुर, संवाददाता। कालीन नगरी में शनिवार की शाम तेज हवा संग बारिश ने...
हिन्दुस्तान टीम,भदोहीSat, 22 Jun 2024 05:30 PM
ऐप पर पढ़ें

ज्ञानपुर, संवाददाता।
कालीन नगरी में शनिवार की शाम तेज हवा संग बारिश ने दस्तक दे दी। बड़ी बूंदी से शुरू हुआ बरसात रिमझिम में तब्दील हो गया। बरसात होते ही मौसम सुहाना हो गया। बच्चे बारिश में मौज-मस्ती करते नजर आए। मानसूनी बारिश में थोड़ी सी लापरवाही बच्चों को बीमार कर सकती है। दोपहर दो बजे तक उमस भरी गर्मी से लोग बेहाल थे। ऐसे में ढाई बजे के बाद अचानक मौसम का मिजाज बदला तो लोगों ने राहत की सांस ली।

बदलते मौसम में बच्चों के प्रति विशेष सवाधानी बरतना जरुरी है। बरसात में मासूम सर्दी, जुकाम, वायरल बुखार, पेट दर्द व दस्त जैसी बीमारी की चपेट में फंस सकते हैं। थोड़ी सी लापरवाही अस्पताल पहुंचा सकती है। कालीन नगरी में तीन दिन से मेघ का कब्जा बना हुआ था। दोपहर बाद बारिश शुरू हो गया। शाम चार बजे तक रिमझिम बारिश का क्रम चलता रहा। बरसात की दस्तक होते ही किसानों का चेहरा खिल उठ। तीखी धूप से झूलस रही धान नर्सरी को मानों संजीवनी मिल गई। जिला अस्पताल के चिकित्सक डा. ओपी श्रीवास्तव की माने तो बारसात में वायरल बुखार होना आम बात है। वायरल का लक्षण अन्य बुखार की तरह होता है। तेज बुखार, सिर दर्द, बदन दर्द, सूखा तेज खांसी व गले में खरास होना लक्षण है। वर्षा से जमा पानी में मच्छर पनपते हैं। ऐसे में मच्छरों से बचाना अत्यंत जरुरी होता है। घर के आसपास दूषित पानी कदापि न एकत्रित होने दें। पुराने बर्तन, टायर, व नाद में जमा पानी को नष्ट कर दें। हफ्ते में एक दिन कूलर की सफाई जरुर करें। बरसात में मलेरिया, टाइफाइड, डेंगू, हैजा, पीलिया व दाद-खुजली समेत त्वचा रोग का भी खतरा बढ़ सकता है। बरसात शुरु होते ही निजी समेत सरकारी अस्पतालों में मरीज बढ़ जाते हैं। इन दिनों ओपीडी में बीमार बच्चों की संख्या अधिक है।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।