DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

संक्रामक बीमारियों का बढ़ा खतरा, सेहत के प्रति रहें सावधान

क्षेत्र में मौसमी बीमारियों से पीडि़त मरीजों में इजाफा होता जा रहा है। हर पल बदलते मौसम के मिजाज व गड्ढों में जमा दूषित पानी से संक्रामक बीमारियां पांव पसारने लगी है। मच्छर जनित बीमारियों का खतरा तेजी से बढ़ने लगा है। सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र औराई हो या निजी नर्सिंगहोम सभी बुखार, मलेरिया व वायरल फिवर से पीडि़त मरीजों से पटे पड़े हैं। 

नगर पंचायत खमरिया, नगर पंचायत घोसिया समेत ग्रामीण अंचलों में मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है। गड्ढों में जमा बारिश के पानी से मच्छरों की भरमार हो गई है। मच्छरों के डंक से ग्रामीण मलेरिया, बुखार व डेंगू जैसे बीमारियों से ग्रसित हो जा रहे हैं। नगरों में तो कभी-कभार फागिंग करा दिया जाता है लेकिन ग्रामीण क्षेत्रों कोई व्यवस्था नहीं की जा रही है। नालों व गड्ढों में जमा बारिश के पानी से पनपने वाले मच्छर बीमारियां बढ़ाने में काफी कारगर साबित हो रहे हैं। चिकित्सकों की माने तो इन दिनों संक्रामक बीमारियों का खतरा बढ़ गया है। बस्तियों में जमा दूषित पानी सड़कर बजबजा रहा है। ऐसे में सेहत के प्रति सचेत रहकर ही बीमारियों से बचा जा सकता है। बेतहासा बढ़ रही मरीजों की संख्या देख झोलाछाप चिकित्सक तगड़ी कमाई करने में लग गए हैं। मरीजों की जिंदगी से खिलवाड़ करना झोलाछाप डाक्टरों के लिए आम बात हो गई है। अधिक पैसा कामने की होड़ में बिना डिग्री वाले डाक्टर गलत दवा देकर बीमारी और बढ़ा दे रहे हैं। ग्रामीण अंचलों के मरीज उनके झांसे में फंसकर अपना सेहत खराब कर ले रहे हैं। मरीज की हालत गंभीर होने पर झोलाछाप डाक्टर जबाब दे दे रहे हैं। ऐसे में तबीयत खराब होने पर झोलाछाप डाक्टरों से सावधन रहने की जरुरत है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Increased risk of infectious diseases be careful about health