DA Image
27 जनवरी, 2021|6:32|IST

अगली स्टोरी

बर्फीली हवाओं ठंड बढ़ी, जनजीवन प्रभावित

बर्फीली हवाओं ठंड बढ़ी, जनजीवन प्रभावित

भदोही। निज संवाददाता

पिछले एक पखवारे से जनपद में हांड़ कंपाने वाली ठंड का कहर बदस्तूर जारी है। बर्फीली हवाओं का साथ मिलने के बाद ठंड से सितम ढ़ाना शुरु कर दिया है। इसके चलते आम आदमी के स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचा रहा है। बदन कंपाने वाली ठंड से भगवान भाष्कर राहत दिला रहे हैं, लेकिन सूरज ढलने के बाद एक बार फिर गलन बढ़ जाती है। साल का अंतिम दिन गुरुवार अब तक का सबसे ठंडा दिन रहा।

उम्मीदों को को धता बताते हुए ठंड ने अपनी उपस्थिति का देर से ही सही जबरदस्त एहसास कराया। दिसंबर महीने के एक सप्ताह तक अच्छी ठंड न पड़ने से अन्नदाताओं के माथे पर बल देखा जा रहा था। इस बीच, माह के दूसरे पखवारे में मौसम ने अपना गियर बदल दिया। बर्फीली उत्तर दिशा की हवाएं चलने के बाद कोहरा व गलन ने सितम ढाना शुरू कर दिया। आलम यह हो गया कि बर्फ रूपी चादरों को भी भगवान भाष्कर नहीं काट पा रहे हैं। गुरुवार पूरे दिन धूप खिली रही, लेकिन आम आदमी कांपता दिखा। यह क्रम इधर, तीन दिन से देखा जा रहा है। दोपहर में निकली धूप ने थोड़ी राहत तो जरुर दे रही है, लेकिन सूरज ढलने के बाद कोहरे व गलन ने आम जन मानस को अपने आगोस में ले लिया।

उधर, अन्नदाताओं के अनुसार पड़ रही ठंड रबी फसलों के लिए रामबाण है, लेकिन अगर आगे पाला पड़ा तो आलू, सरसों, अरहर, मटर समेत अन्य फसलों को नुकसान हो सकता है। कड़ाके की ठंड के कारण बच्चे, महिलाएं, बुजुर्ग मौसम जनित बीमारियों की चपेट में आकर अस्पतालों के चक्कर काट रहे हैं। मौसम विज्ञानिकों के अनुसार अगले कुछ और दिनों तक इसी तरह ठंड पड़ने के आसार नजर आ रहे हैं।

उधर, राहत व बचाव की दिशा में जिला प्रशासन द्वारा अभी तक कोई सार्थक कदम नहीं उठाया गया है। ग्रामीण अंचलों में न तो अलाव दिख रहा है और न ही किसी को अभी तक कंबल मिला। ऐसे में लोगों में जिला प्रशासन के प्रति आक्रोश देखा जा रहा है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Freezing winds increased life affected