DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भदोही: एएनएम के अभाव में ग्रामीण अंचलों की स्वास्थ्य सेवाएं बेपटरी

आजादी के सात दशक बाद भी ग्रामीण अंचलों की स्वास्थ्य व्यवस्था पटरी पर नहीं लौट रही है। कहीं उप स्वास्थ्य केंद्र जर्जर हैं तो कहीं, चिकित्सकों व स्वास्थ्य कर्मियों का अभाव दूर होने का नाम नहीं ले रहा है। बानगी के तौर पर ब्लाक क्षेत्र के पांच उप स्वास्थ्य केंद्र (प्रसव केंद्र) को देखा जा सकता है। जहां पर एएनएम का पोस्ट खाली होने के कारण वे बंद पड़े हुए हैं। स्वास्थ्य विभाग द्वारा सुरियावां ब्लाक क्षेत्र के सुरियावां प्रथम, रामनगर, सरायक्षत्रशाह, हरिहरपुर, बरमोहनी गांव में महिलाओं को उत्तम स्वास्थ्य सुविधा देने के लिए स्वास्थ्य उपकेंद्र (प्रसव कक्ष) खोले गए थे। इस दौरान केंद्रों पर तैनात एएनएम द्वारा गर्भवती महिलाओं का प्रसव कराने के साथ ही उपचार व बच्चों का टीकाकरण किया जाता था। इस बीच, स्थानान्तरण के कारण पांचों सेंटरों पर एएनएम का पद रिक्त पड़ा हुआ है। इसके चलते संबंधित गांव समेत आसपास की महिलाओं को भारी दुश्वारी का सामना करना पड़ रहा है। प्रसव समेत बच्चों को टीका लगवाने के लिए कई किलोमीटर की यात्रा कर सुरियावां सीएचसी पहुंचना पड़ता है। इस दौरान समय के साथ ही आर्थिक चपत भी लगती है। उधर, एएनएम की तैनाती को लेकर जनप्रतिनिधियों के साथ ही विभाग के आला अधिकारियों का कई बार ध्यानाकृष्ट कराया गया। लेकिन संज्ञान नहीं लिया जा रहा है। क्षेत्र निवासी पप्पू उपाध्याय, सुरेश गौतम, राकेश शर्मा, दिलीप ने जिला प्रशासन का ध्यानाकृष्ट कराते हुए समस्या समाधान कराने की मांग की है। इस बाबत सीएचसी के अधीक्षक डा. सऊद अहमद का कहना है कि एएनएम की तैनाती के लिए विभाग को लिखा गया है। उनके आते ही संबंधित गांवों के लोगों की समस्या का समाधान करा दिया जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Bhadohi: In absence of ANM, the absence of health services of rural areas