DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › बस्ती › मानदेय बढ़ाने को लेकर एसबीएम कर्मियों ने सौंपा ज्ञापन
बस्ती

मानदेय बढ़ाने को लेकर एसबीएम कर्मियों ने सौंपा ज्ञापन

हिन्दुस्तान टीम,बस्तीPublished By: Newswrap
Fri, 23 Jul 2021 09:50 PM
मानदेय बढ़ाने को लेकर एसबीएम कर्मियों ने सौंपा ज्ञापन

बस्ती। निज संवाददाता

स्वच्छ भारत मिशन ग्रामीण तहत कार्यरत कर्मियों ने शुक्रवार को डीपीआरओ के माध्यम से निदेशक पंचायती राज, मंत्री व शासन को ज्ञापन भेजा। ज्ञापन में कर्मियों ने कर्मियों ने मानदेय बढ़ाने की मांग की है। उनका कहना है कि पिछले 10 साल से एक समान मानदेय दिया जा रहा है, जबकि मंहगाई कई गुना बढ़ चुकी है।

ज्ञापन देते हुए एसबीएम कर्मियों राजा शेर सिंह, विष्णुदेव नाथ तिवारी, अमित जयसवाल, मारकण्डेय सिंह, अभितेष पटेल, सुशील चौधरी, देवेन्द्र वर्मा, अमित श्रीवास्तव, पूर्णमासी सोनकर, हरिशंकर गुप्ता, राजू पांडेय, सुरेंद्र यादव, सर्वेश पांडेय और राहुल पांडेय ने बताया कि जिला स्तर व विकास खण्ड स्तर पर कार्यरत जिला कन्सलटेंट, सहायक लेखाकार, योजना सहायक, खण्ड प्रेरक, कम्प्यूटर ऑपरेटर पिछले 10 साल से अपना काम कर रहे हैं। इन कर्मियों ने जिले को खुले में शौचालय मुक्त करने में अपना योगदान दिया। संविदा कर्मियों ने कोविड-19 जैसी महामारी में भी अपनी जान की परवाह किए बिना कार्य दिवस के अलावा भी सार्वजनिक अवकाश के समय कार्यालय में काम किया।

वर्ष 2015 से लेकर अब तक एसबीएम कर्मियों के मानदेय में कोई बढ़ोत्तरी नहीं की गई है। मंहगाई दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है। शासनादेश है कि समस्त कन्सलटेंट व अन्य कार्यरत कर्मियों के मानदेय एवं यात्रा भत्तों का निर्धारण राज्य आजीविका मिशन में दिये जा रहे मानदेय के आधार पर दिया जा सकता है। जिसका निर्णय कार्यकारी समिति, स्टेट सैनिटेशन मिशन को करना है। राज्य स्तर पर कार्यरत कन्सलटेंट के मानदेय में प्रति वर्ष 10 प्रतिशत बढ़ोत्तरी की जाती रही है। जनपद स्तर के कर्मी इसे लाभ से वंचित हैं। यह विरोधाभास है। बाहरी एजेन्सी से रखे गए कन्सल्टेंट का मानदेय भी अधिक है। ऐसे हमारी मांग है कि प्रति वर्ष 10 प्रतिशत वृद्धि की दर से मानदेय दिया जाए।

संबंधित खबरें