DA Image
25 फरवरी, 2021|10:39|IST

अगली स्टोरी

लाल निशान से 53 सेमी ऊपर बह रही सरयू

लाल निशान से 53 सेमी ऊपर बह रही सरयू

सरयू नदी का जलस्तर अब खतरे के स्तर को पार कर अधिकतम फ्लड लेवल की ओर बढ़ रहा है। जिसके चलते विक्रमजोत विकास खण्ड के चार गांव कल्याण पुर, भरथापुर, पड़ाव व चांदपुर मैरुण्ड हो गये हैं। दो दर्जन से अधिक गांवों में बाढ़ का पानी पहुंच गया है। केंद्रीय जल आयोग अयोध्या ने शनिवार की दोपहर दो बजे नदी का जलस्तर 93.26 मीटर रिकॉर्ड किया जो कि खतरे के निशान 92.73 से 53 सेंटीमीटर ऊपर व हाईएस्ट फ्लड लेवल 94.01 मीटर से 74 सेमी नीचे है।

सरयू का जलस्तर आधा सेमी प्रति घंटा बढ़ रहा है। केन्द्रीय जल आयोग ने रविवार की सुबह तक जल स्तर 93.30 मीटर के ऊपर पहुंचने का अनुमान लगाया है। कल्यानपुर, भरथापुर, पड़ाव व चांदपुर गांव के चारो तरफ बाढ़ का पानी भर गया है। मुख्य मार्ग पर करीब तीन फिट ऊपर पानी बह रहा है। जिसके चलते ग्रामीणों को दैनिक प्रयोग की वस्तुओं को लाने के लिए गांव से निकलने में परेशानी हो रही है।

विकास क्षेत्र विक्रमजोत के कवलपुर, चानपुर, संदलपुर, छतौना, कन्हईपुर, नरसिंहपुर, खेमराजपुर, अइलिया जुग्गाराय, शम्भूपुर, चंद्रपलिया व रैदासपुर सहित दर्जन भर गांव में पानी भरने लगा है। लोग समान व अपने पशुओं को सुरक्षित जगहों पर पहुंचाने में लगे हैं। हाइवे पर घघौवा व खतमसराय में बने पुलो के रास्ते बाढ़ का पानी परशुराम पुर विकास खण्ड की तरफ बढ़ रहा है। मांचा, रिधौरा, हैदराबाद सहित गांवों के सिवान में पहुंच गया है जिसके चलते फसलें जलमग्न हो गयी हैं।

बढ़ रही सरयू ने बांध पर बनाया दबाव

दुबौलिया। सरयू नदी तीसरी बार फिर अपना रौद्र रूप दिखा रही है। इससे क्षेत्र के तकरीबन दर्जन भर गांव जलमग्न हो चुके हैं। अति संवेदनशील तटबंध कटरिया-चांदपुर व गौरा-सैफाबाद के पारा व मटिहा के ठोकरों पर पानी का दबाव तेज हो गया है। टकटकवा गांव के सुरक्षा के लिए बनाया गया रिंगबांध ओवरफ्लो होने के कगार पर पहुंच गया है। ऐसे ही जलस्तर बढ़ता रहा तो शनिवार को शाम तक टकटकवा रिंगबांध ओवरफ्लो हो जाएगा। क्षेत्र के सुविखा बाबू, खजांचीपुरवा व टेढ़वा गांव पूरी तरह से मैरुंड हो चुके हैं। यहां सिर्फ नाव के सहारे लोग अपनी जरूरतें पूरी कर रहे हैं।

24 गांवों की 72 सौ की आबादी है बाढ़ से प्रभावित

आपदा के नोडल अधिकारी एडीएम रमेशचंद्र ने बताया कि जिले में कुल 24 गांव बाढ़ प्रभावित हैं। दो गांव मैरूंड हो गए हैं, जिसमें सुविधा बाबू और टेढ़वा शामिल है। मैरूंड गांवों की आबादी 550 है। कुल बाढ़ से 7215 की आबादी प्रभावित हो रही है। बाढ़ के पानी से 1344 हेक्टेयर भूमि जलमग्न हो गई है। आवागमन के लिए 24 नाव की व्यवस्था की गई है। बाढ़ चौकियों पर 17 कर्मचारी तैनात हैं।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Saryu flowing 53 cm above the red mark