DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  बस्ती  ›  अब पीएफएमएस पोर्टल से वेरीफाई किया जाएगा अभिभावकों का खाता

बस्तीअब पीएफएमएस पोर्टल से वेरीफाई किया जाएगा अभिभावकों का खाता

हिन्दुस्तान टीम,बस्तीPublished By: Newswrap
Tue, 01 Jun 2021 04:50 AM
अब पीएफएमएस पोर्टल से वेरीफाई किया जाएगा अभिभावकों का खाता

बस्ती। निज संवाददाता

कोविड संक्रमण के चलते लंबी अवधि तक स्कूल बंद रहने के कारण मध्यान्ह भोजन योजना के तहत कन्वर्जन कास्ट की धनराशि छात्र-छात्राओं के माता-पिता या अभिभावकों के बैंक खातों में भेजी जा रही है। इसके लिए प्रधानाध्यापकों के माध्यम से बैंक खातों का विवरण प्रेरणा-पोर्टल पर अपलोड कराया गया है। अब कक्षा एक से आठ तक अध्ययनरत समस्त छात्र-छात्राओं के माता-पिता या अभिभावकों के बैंक खातों का विवरण पीएफएमएस (पब्लिक फाइनेंसियल मैनेजमेंट सिस्टम) पोर्टल के माध्यम से सत्यापित किया जाएगा।

महानिदेशक स्कूल शिक्षा विजय किरन आनंद स्तर से प्रदेश के सभी जिला बेसिक शिक्षा अधिकारियों को जारी फरमान में कहा गया है कि प्रदेश के समस्त मध्यान्ह भोजन योजना से जुड़े छात्र-छात्राओं के माता-पिता या अभिभावकों के बैंक खातों से संबंधित डाटा को राज्य परियोजना कार्यालय के पीएफएमएस सेल स्तर से जनपद व विकासखंड वार डाउनलोड किया जाएगा। संबंधित जनपद के एएओ के लॉगिन से पीएफएमएस पोर्टल पर सत्यापित किया जाएगा। इस प्रक्रिया में अमान्य होने वाले डाटा को संबंधित जनपदों के प्रेरणा पोर्टल के माध्यम से वापस भेज दिया जाएगा।

जनपद स्तर पर बीएसए अमान्य (इनवैलिड) डाटा को संबंधित ब्लॉक के खंड शिक्षा अधिकारी के माध्यम से स्कूलों के प्रधानाध्यापक को प्रेरणा पोर्टल के माध्यम से उपलब्ध कराएंगे। प्रधानाध्यापक स्तर से क्रास चेक कर संबंधित छात्र से जुड़े बैंक डाटा को परिजनों से संपर्क कर बैंक विवरण हासिल कर जांचेंगे, जिससे कोई गलती फिर न हो। इस डाटा को प्रमाणित करते हुए प्रधानाध्यापक ही प्रेरणा पोर्टल पर डाउनलोड करेंगे। इसके बाद बीईओ स्तर से इसे सत्यापित किया जाएगा। इसके पूर्व क्रास चेक करने के लिए बीईओ रैंडम आधार पर संबंधित छात्र के अभिभावक की बैंक पासबुक मंगाकर उसे क्रास चेक करेंगे।

सत्यापन न होने पर डिलीट होगा खाता

महानिदेशक ने स्पष्ट किया है कि कक्षा एक से आठ तक के जिन छात्रों के अभिभावकों के बैंक खातों का सत्यापन नहीं हो पा रहा है, उनका डाटा पोर्टल से डिलीट किया जाएगा। इसके लिए प्रधानाध्यापक की संस्तुति जरूरी होगी। इसके आधार पर खंड शिक्षा अधिकारी अपनी लॉगिन से संबंधित अमान्य डाटा को डिलीट कर सकेंगे।

संबंधित खबरें