ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेश बस्तीपिता-पुत्र समेत आठ को पांच साल की सजा

पिता-पुत्र समेत आठ को पांच साल की सजा

बस्ती, निज संवाददाता। अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश प्रमोद कुमार गिरि की अदालत ने...

पिता-पुत्र समेत आठ को पांच साल की सजा
हिन्दुस्तान टीम,बस्तीFri, 01 Dec 2023 12:30 AM
ऐप पर पढ़ें

बस्ती, निज संवाददाता। अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश प्रमोद कुमार गिरि की अदालत ने प्राणघातक हमला करने के मामले में पिता-पुत्र समेत पांच लोगों को पांच वर्ष सश्रम कारावास की सजा सुनाई है। साथ ही प्रत्येक पर 16 हजार का अर्थदंड लगाया गया, जिसे न चुकाने पर दो वर्ष चार माह की अतिरिक्त सजा काटनी होगी। वहीं क्रास केस में कोर्ट ने पिता-पुत्र समेत तीन को मारपीट व अन्य धाराओं में पांच-पांच वर्ष सश्रम कारावास व प्रत्येक पर 12 हजार अर्थदंड लगाया है। इसे अदा न करने पर एक वर्ष सात माह की अतिरिक्त सजा भुगतनी होगी।
कप्तानगंज थाने के नकटीदेई बुजुर्ग रेहरवा गांव में दो अगस्त 2013 की शाम रामतीरथ चौधरी व बाबूलाल चौधरी के बीच भूमि विवाद को लेकर मारपीट हो गई थी। मामले में रामतीरथ चौधरी ने थाने में तहरीर देकर कहा कि उनका बेटा विनोद सड़क पर स्थित अपनी राइस मिल से लौट रहा था। जैसे ही विपक्षी हरिशंकर के घर के पास पहुंचा तो बाबूलाल, उनके तीन बेटे हरिशंकर, पवन कुमार, इन्द्रजीत के अलावा संदीप कुमार ने अपशब्द कहते हुए मारने के लिए दौड़ा लिया।

वह घर में छिप गया तो घर पर चढ़कर विनोद को बुरी तरह मारापीटा। बीच-बचाव में आए परिजनों को मारापीटा। बेटी रीता को गंभीर चोट आई और वह बेहोश हो गई थी। पुलिस ने पांच आरोपितों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर सभी के खिलाफ आरोप पत्र कोर्ट में दाखिल किया था।

वहीं दूसरे पक्ष के बाबूलाल ने तहरीर देकर बताया कि वह अपनी बाउंड्री की मरम्मत करा रहे थे। विपक्षी रामतीरथ के मना करने पर काम रोक दिया था। इसी बात की रंजिश को लेकर दो अगस्त को विपक्षी रामतीरथ, उनके बेटे विनोद और प्रमोद ने अपशब्द कहते हुए मारापीटा। बीच-बचाव में आए परिजनों को भी मारापीटा। पुलिस ने क्रास केस दर्ज कर तीनों के खिलाफ चार्जशीट कोर्ट में दाखिल कर दी थी। इसी प्रकरण में सुनवाई बाद न्यायालय ने दोनों मामलों में कुल आठ आरोपितों को दोषी करार देते हुए गुरुवार को पांच-पांच वर्ष के कारावास की सजा सुनाई है।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें