DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

घुटने के रोगियों के लिए वरदान हैं टोटल नी रिप्लेसमेंट

घुटने के रोगियों के लिए वरदान हैं टोटल नी रिप्लेसमेंट

टोटल नी रिप्लेसमेंट आपरेशन अर्थराइटिस के पुराने रोगियों के लिए वरदान जैसा है। इस आपरेशन की सफलता का प्रतिशत बहुत अधिक है। जो मरीज चलने-फिरने में भी असमर्थ थे, इस आपरेशन से कई किमी तक आराम से चल सकते हैं। आपरेशन के बाद न तो घुटने में दर्द होता है और न ही बैठने-उठने में कोई परेशानी होती है। जब घुटने का दर्द दूर करने के सभी विकल्प फेल हो जाते हैं तो यह आपरेशन ही इकलौता विकल्प होता है।

राष्ट्रीय हड्डी एवं जोड़ दिवस पर आईएमए में आयोजित सेमिनार में अपोलो अस्पताल के वरिष्ठ चिकित्सक डा. राजू वैश्य ने यह जानकारी दी।डा. राजू वैश्य ने बताया कि अर्थराइटिस के मरीजों को तीन श्रेणियों में बांट सकते हैं। पहली श्रेणी में वो मरीज होते हैं जिनका इलाज दवाएं और फिजियोथेरेपी से हो सकता है। दूसरी श्रेणी के मरीजों का दूरबीन विधि से आपरेशन होता है और विशेष प्रकार के जूते पहनने पड़ते हैं। तीसरी श्रेणी में वो मरीज होते हैं जिनकी हड्डियां घिस जाती हैं और तब घुटना बदलना ही एकमात्र विकल्प होता है।

डा. वैश्य ने कहा कि पहले यह आपरेशन महंगा था लेकिन सरकार ने कृत्रिम घुटने की कीमत कम कर दी है और अब आम आदमी भी यह आपरेशन करा सकता है। डा. प्रमेंद्र माहेश्वरी, डा. सत्येंद्र सिंह, डा. विनोद पागरानी, डा. विमल भारद्वाज ने डा. राजू वैश्य का स्वागत किया। डा. वैश्य ने आईएमए में डाक्टरों और आम लोगों के कई सवालों का जवाब दिया। उन्होंने गोल्डन कृत्रिम घुटने के बारे में बताया और कहा कि यह काफी बेहतर है और सालों खराब नहीं होते हैं।

आर्थोपैडिक एसोसिएशन ने निकाली जागरूकता रैली: राष्ट्रीय हड्डी एवं जोड़ दिवस के मौके पर शनिवार को बरेली आर्थोपैडिक एसोसिएशन ने जागरूकता रैली निकाली। सुबह स्पोर्ट्स स्टेडियम से रैली निकली और लोगों को सुरक्षित यातायात के प्रति जागरूक किया। मुख्य अतिथि आरएसओ लक्ष्मी शंकर सिंह, विशिष्ट अतिथि मंजू प्रकाश ने रैली को रवाना किया। आर्थोपैडिक एसोसिएशन के सचिव डा. विनोद पागरानी ने बताया कि इंडीयन आर्थोपेडिक एसोसिएशन इस साल की थीम रोड सेफ्टी रखा है। रैली के बाद खुशलोक अस्पताल में डाक्टर की बैठक हुई। कार्यक्रम का संचालन फिजियो डा. शशांक शुक्ला ने किया। इस मौके पर डा. प्रमेन्द्र माहेश्वरी, डा. प्रदीप, संजय पागरानी, अमित मिश्रा, बिलाल शम्सी, नईम अहमद, दिनेश मेहता, इंद्रजीत सिंह चंद्रपाल, आशुतोष शुक्ला आदि मौजूद रहे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Total Ni Replacement is a boon for knee patients