DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › बाघिन रबर फैक्ट्री में लौटी, ट्रेंक्यूलाइज की तैयारी कर रहा है वन विभाग
बरेली

बाघिन रबर फैक्ट्री में लौटी, ट्रेंक्यूलाइज की तैयारी कर रहा है वन विभाग

हिन्दुस्तान टीम,बरेलीPublished By: Newswrap
Sat, 22 May 2021 10:40 PM
बाघिन रबर फैक्ट्री में लौटी, ट्रेंक्यूलाइज की तैयारी कर रहा है वन विभाग

हेमराजपुर के जंगल में दो किसानों को घायल करने वाली बाघिन रबर फैक्ट्री में अपने पुराने ठिकाने पर लौट गई है। रबर फैक्ट्री में लगे सीसीटीवी कैमरों से यह बात वन अधिकारियों को पता चली है। बाघिन के रबर फैक्ट्री में लौटने की पुष्टि होने पर वन विभाग के अधिकारियों ने उसको पकड़ने की योजना बनाई है। बाघिन को ट्रेंक्यूलाइज किया जायेगा। वन विभाग ने इसकी तैयारी शुरू कर दी है।

रबर फैक्ट्री से निकल कर गत दिनों बाघिन हेमराजपुर के जंगल में आ गई थी। हेमराजपुर में रामगंगा नदी से सटे जंगल में बाघिन ने गत दिनों खेत की सिंचाई कर रहे दो किसानों पर हमला कर उन्हे गंभीर रूप से घायल कर दिया था। हमले के बाद दो दिन जंगल में बाघिन रात में शिकार की तलाश में घूमी। उसने सुअर का शिकार भी किया। लेकिन दो दिन से हेमराजपुर के जंगल में बाघिन नहीं दिखी। बाघिन रामगंगा के खादर से निकल कर फिर रबर फैक्ट्री में पहुंच गई है। बाघिन रबर फैक्ट्री की पुरानी बिल्डिंगों पर घने जंगल में बस गई है। जंगल में वन्य जीवों की भरमार है। प्यास बुझाने को पानी है। जंगल अपने अनुकूल होने के कारण बाघिन ने यहीं पर स्थायी ठिकाना बना लिया है। रबर फैक्ट्री में बाघिन के लौटने की पुष्टि होने के बाद वन विभाग के अधिकारियों ने बाघिन को पकड़ने की योजना बना ली है।

वन विभाग बाघिन को ट्रेंक्यूलाइज करने की तैयारी कर रहा है। इसके लिए पीलीभीत के टाइगर रिजर्व एरिया से खास ट्रैक्टर मंगाया है। बाघिन को ट्रेंक्यूलाइज करने को एक्सपर्ट बुलाए जायेंगे। उल्लेखनीय है गत वर्षों रबर फैक्ट्री में आए बाघ को भी वन विभाग की टीमों ने ट्रेंक्यूलाइज कर ही पकड़ा था। बाघ को पकड़ने के बाद अधिकारियों ने उसे लखनऊ चिड़ियाघर भेज दिया था।

बाघिन हेमराजपुर के जंगल से रबर फैक्ट्री लौट गई है। बाघिन दो कैमरों में दिखी है। कोयला और चुना गोदाम के पास। बाघिन को ट्रेंक्यूलाइज किया जायेगा।

- भरत लाल, डीएफओ

संबंधित खबरें