DA Image
Saturday, December 4, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेशसमिति ने प्रमोट करने का खाका खींचा, परीक्षा का भी विकल्प दिया

समिति ने प्रमोट करने का खाका खींचा, परीक्षा का भी विकल्प दिया

हिन्दुस्तान टीम,बरेलीNewswrap
Thu, 20 May 2021 04:01 AM
समिति ने प्रमोट करने का खाका खींचा, परीक्षा का भी विकल्प दिया

सत्र 2020-21 की मुख्य परीक्षा और सेमेस्टर परीक्षाओं में शामिल होने जा रहे छात्रों को प्रमोट करने को लेकर शासन की तीन सदस्यीय समिति ने नियम तैयार कर लिया है। समिति ने प्रमोट करने के साथ ही परीक्षा का भी विकल्प दिया है। अब शासन स्तर पर छात्रों को प्रमोट करने या परीक्षा की गाइडलाइन तैयार होगी और फिर यही पूरे प्रदेश पर लागू होगी।

कोरोना संक्रमण को देखते हुए शासन ने बिना परीक्षा के छात्रों को प्रमोट करने के लिए नियम तैयार करने को लेकर एक तीन सदस्यीय समिति बनाई थी। समिति में रुहेलखंड विवि, कानपुर विवि और लखनऊ विवि के कुलपति शामिल थे। समिति ने कई चरणों की ऑनलाइन बैठक के बाद प्रमोट करने का नियम तैयार किया है। बताया जा रहा है कि समिति ने परीक्षा कराए जाने पर भी ध्यान दिया है। यह गोपनीय रिपोर्ट शासन को भेज दी गई है। ऐसा माना जा रहा है कि प्रमोट और परीक्षा को लेकर शासन पिछले साल के मॉडल को अपना सकता है। जिसमें प्रथम और द्वितीय वर्ष के छात्रों को प्रमोट किया गया था वहीं फाइनल ईयर के छात्रों की परीक्षा कराई गई थी।

परास्नातक में प्रमोट करने पर होगी मुश्किल

शिक्षकों का कहना है कि अब सभी छात्रों को प्रमोट किया गया तो परास्नातक के छात्रों को बिना किसी परीक्षा के ही डिग्री मिल जाएगी। ऐसा इसलिए कि पिछले साल परास्नातक प्रथम वर्ष के छात्रों को अगली कक्षा में प्रमोट किया गया था। वे इस समय फाइनल ईयर में हैं। ऐसे में इस साल भी प्रमोट किए गए तो उनको बिना परीक्षा के ही डिग्री मिल जाएगी। ऐसी स्थिति में डिग्री पर ही सवाल खड़े होंगे। माना जा रहा है कि फाइनल ईयर की परीक्षा शासन करा सकता है पर स्नातक में प्रथम व द्वितीय वर्ष तथा परास्नातक के प्रथमवर्ष के छात्रों को प्रमोट किया जाएगा। इसके लिए पिछले साल के मॉडल को अपनाया जाएगा।

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें