DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  चीनी मिलों ने रोका किसानों का 1241 करोड़ का भुगतान

बरेलीचीनी मिलों ने रोका किसानों का 1241 करोड़ का भुगतान

हिन्दुस्तान टीम,बरेलीPublished By: Newswrap
Tue, 25 May 2021 03:31 AM
चीनी मिलों ने रोका किसानों का 1241 करोड़ का भुगतान

कोरोना काल में फल-सब्जियों पर मंदी की मार से जूझ रहे किसानों के लिए अब गन्ना भुगतान आफत बन गया है। बरेली मंडल में चीनी मिलों के ऊपर किसानों का 1241 करोड़ रुपये से ज्यादा भुगतान बकाया है। कई चीनी मिलों ने तो लंबे समय से भुगतान ही नहीं किया है।

पेराई सत्र समाप्त हुए लगभग दो माह बीत जाने के बावजूद किसानों का बकाया खत्म नहीं हो पाया है। बरेली मंडल के चारों जिलों में भुगतान का एक जैसा हाल है। कई जगह तीन से चार महीना पुराना भुगतान भी अब तक खाते में नहीं भेजा गया है। यह स्थिति तब है जब सरकार की ओर से 14 दिन के अंदर भुगतान करने के निर्देश हैं। किसानों को भुगतान दिलाने में गन्ना विभाग भी पूरी तरह नाकाम सिद्ध हुआ है। विभाग की चेतावनी के बावजूद चीनी मिलें भुगतान देने में आनाकानी कर रही हैं। भुगतान में देरी के पीछे चीनी मिलें लॉकडाउन को जिम्मेदार ठहरा रही हैं। चीनी मिल प्रबंधन की माने तो लॉकडाउन में चीनी बिक्री प्रभावित हुई है। होटल, रेस्टोरेंट, आइसक्रीम उद्योग में नाम मात्र की डिमांड नहीं बची है। इसके चलते भुगतान में मुश्किलें आ रहीं हैं।

भुगतान पर नहीं मिलता ब्याज

14 दिन के बाद भी भुगतान न मिलने पर बकाया पर ब्याज देने के प्रावधान है। इसके बावजूद किसी चीनी मिल की ओर से किसानों को ब्याज नहीं दिया जाता। गन्ना विभाग के अधिकारी भी बकाए पर ब्याज दिलवाने के लिए कोई प्रयास नहीं करते।

भुगतान न मिलने से अटकी धान रोपाई

जिले के किसान इन दिनों धान रोपाई की तैयारियों में जुटे हुए हैं। मगर महीनों बाद भी गन्ने का बकाया भुगतान ना मिलने से किसान धान रोपाई के लिये खाद बीज की खरीद ही नहीं कर पा रहे।

जिला बकाया(करोड़ में)

बरेली 351.61

पीलीभीत 456.24

शाहजहांपुर 349.66

बदायूं 84.30

वर्जन:

सभी चीनी मिलों को तेजी से भुगतान के निर्देश हैं। लॉकडाउन की वजह से कुछ दिक्कतें आ रहीं हैं। जल्द ही सभी किसानों को पूरा भुगतान किया जाएगा।

- पी एन सिंह, जिला गन्ना अधिकारी

संबंधित खबरें