DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

यूपी: पहले पति ने तीन तलाक देकर रेशमा को घर से निकाला, अब दीपक संग सात फेरे लेकर बनी रानी राठौर

तीन तलाक पर केंद्र सरकार के अध्यादेश लाने के बावजूद महिलाएं इसका दंश झेल रही हैं। तीन तलाक से पीड़ित ऐसी ही एक युवती ने बुधवार को धर्म परिवर्तन कर बरेली के राम जानकी मंदिर में यज्ञ की वेदी के सामने हिन्दू युवक से शादी रचा ली। रेशमा से रानी राठौर बनी तीन तलाक पीड़िता ने कहा कि वह अपनी स्वेच्छा से धर्म परिवर्तन कर रही है। हालांकि खतरे की आशंका को देखते हुए नवदंपति ने एडीजी और डीआईजी से सुरक्षा की मांग की है।

29 वर्षीय रानी राठौर (रेशमा) पीलीभीत के मोहल्ला देशनगर में जय संतरी देवी मंदिर के पास की रहने वाली है। उसके पिता का नाम मो. इस्लाम है। रेशमा को उसके पहले पति ने पांच अप्रैल 2019 को तीन तलाक दे दिया था। इसके बाद उसे मारपीट कर घर से निकाल दिया। रेशमा और उसके मायके वालों ने कई बार सुलह की कोशिश की लेकिन ससुराल वाले तैयार नहीं हुए। ससुराल वालों ने शरीयत कानून के तहत हलाला करने समेत कई शर्तें रख दीं। इसके बाद रेशमा मो. पकड़िया नौगवां में हिंदू संगठन से जुड़े दीपक राठौर के संपर्क में आई। दोनों में मोहब्बत हो गई। उन्होंने शादी करने का फैसला कर लिया। हालांकि समाज के रीति रिवाज और धार्मिक बंधन दोनों के आड़े आ रहे थे। बाद में कुरीतियों, परंपराओं को तोड़ते हुये दीपक और रेशमा अखिल भारत हिंदू महासभा के प्रदेश उपाध्यक्ष पंडित केके शंखधार से मिले। दोनों ने उनसे शादी कराने की गुहार लगाई।

बरेली के रामजानकी मंदिर में ही किया धर्म परिवर्तन
बुधवार को प्रेमनगर के रामजानकी मंदिर में रेशमा का धर्म परिवर्तन कराकर उसे रानी नाम दिया गया। इसके बाद वैदिक मंत्रोच्चार के साथ यज्ञ की वेदी पर रानी ने दीपक के गले में जयमाला डाल दी। दोनों ने पंडित शंखधार से आशीर्वाद लिया।

पिता बोले-बेटे से ऐसी उम्मीद नहीं थी, उसकी गलती माफी लायक नहीं, फिर भी घर आया तो अपना लूंगा

शौहर के पास है बेटी
रेशमा ने बताया कि पीलीभीत में उसका निकाह नौगवां पकड़िया के मो. रईस से हुआ था। रईस से उसे दो साल की बेटी है। पांच अप्रैल को तीन तलाक देने के बाद रईस और उसके घरवालों ने रेशमा को मारपीट कर घर से बेघर कर दिया। उसकी दो साल की बेटी भी छीन ली।

बुधवार को रेशमा का उसकी इच्छानुसार धर्म परिवर्तन कराया गया। इसके बाद दीपक राठौर और रेशमा विवाह के पवित्र बंधन में बंध गए। दोनों को आशीर्वाद के साथ विदा किया। अभी उन्हें प्रमाणपत्र देना है। -पंडित केके शंखधार, अगस्त मुनि आश्रम, छोटी बमनपुरी 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Rani Bunny Reshma wins marriage with Deepak