DA Image
23 अक्तूबर, 2020|5:16|IST

अगली स्टोरी

खरीद सत्र: बिना लक्ष्य पूरा किए गेहूं खरीद सत्र समाप्त

खरीद सत्र: बिना लक्ष्य पूरा किए गेहूं खरीद सत्र समाप्त

कोरोना संकट के बीच शुरू हुई गेहूं खरीद प्रक्रिया बिना लक्ष्य पूरा किए ही समाप्त हो गई। 75 दिन चली खरीद प्रक्रिया में हावी अव्यवस्थाओं से किसानों को खासी परेशानियां हुई। पूरे खरीद सत्र में किसान क्रय केंद्र पर तौल न होने जैसी समस्याओं से जूझते रहे। हालांकि इस साल पिछले साल की तुलना में खरीद में इजाफा जरूर हुआ मगर लक्ष्य प्राप्ति से यह कोसों दूर रही।

15 अप्रैल से शुरू हुई गेहूं खरीद प्रक्रिया के तहत इस साल 1.61 लाख मीट्रिक टन गेहूं खरीद का लक्ष्य रखा गया। इसके लिए शुरुआत में 117 क्रय केंद्र बनाए गए, बाद में इनकी संख्या 128 तक पहुंच गई। गेहूं खरीद के लिए 15 जून तक की समय सीमा तय की गई। हालांकि लक्ष्य पूरा न होता देख इसे 15 दिन के लिए बढ़ा दिया गया। हालांकि इन सब कवायदों के बाद भी गेहूं खरीद प्रक्रिया लक्ष्य तक पहुंचने से पहले ही दम तोड़ गई। 1.61 लाख मीट्रिक टन की तुलना में मंगलवार शाम तक सिर्फ 106708 मीट्रिक टन ही गेहूं खरीदा गया। जो लक्ष्य का सिर्फ 68 फीसदी ही है। पिछले साल की तुलना में इस साल 14540 मीट्रिक टन ज्यादा गेहूं खरीदा गया।

गेहूं खरीद में तेजी लाने के लिए विभाग ने इस साल मोबाइल क्रय केंद्र और एफपीओ के जरिए घर से गेहूं खरीद की व्यवस्था भी की। हालांकि इसके जमीन पर आने से पहले ही अधिकांश किसानों ने अपना गेहूं बेच दिया। जिस वजह से किसान इन योजनाओं का लाभ नहीं उठा सके।

3.50 लाख किसान, गेहूं बेचा सिर्फ 15 हजार ने

कृषि विभाग के अनुसार इस साल जिले में 3.50 लाख से ज्यादा किसानों ने गेहूं की पैदावार की। मगर इसमें से सिर्फ 15 हजार किसानों ने ही समर्थन मूल्य पर गेहूं की बिक्री की। समर्थन मूल्य पर गेहूं बेचने में होने वाली परेशानियों की वजह से अधिकांश किसानों ने इससे दूरी बनाना ही बेहतर समझा। सूत्रों की माने तो गेहूं खरीद में लगी एजेंसियां अपने चहेतों को लाभ पहुंचाने के लिए किसानों को बेवजह परेशान करती हैं। यही वजह है समर्थन मूल्य का वास्तविक लाभ किसानों को नहीं मिल पाता।

जिला खाद्य एवं विपणन अधिकारी सुनील भारती ने बताया कि खरीद प्रक्रिया का मंगलवार को समापन करा दिया गया। पूरे सत्र में कुल 16800 किसानों ने अपना गेहूं समर्थन मूल्य पर बेचा। हालांकि फाइनल आंकड़े आने के बाद इसमें मामूली बढ़ोतरी भी होगी।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Procurement session ending wheat procurement session without meeting the targets