DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अस्पताल में घुसकर पुलिस ने तीमारदार को पीटा, हंगामा

जिला अस्पताल में अपने बेटे की दवा लेने आए तीमारदार को पुलिस ने पीट दिया। बेटे के सामने पिटने   से आहत पीड़ित पिता और उसके समर्थन में तमाम लोगों ने अस्पताल में हंगामा कर दिया। हंगामा की जानकारी मिलने पर सीओ और कोतवाल भी अस्पताल पहुंच गए। किसी तरह से दोषी के खिलाफ कार्रवाई का अश्वासन देकर मामले को शांत कराया। 

गुरुवार को शहर के मोहल्ला अर्जुनपुरवा सेठघाट रोड के रहने वाले अंकुर गुप्ता अपने सात साल के बेटे वीर गुप्ता का दांत उखड़वाने को अस्पताल गए थे। दांतो की डॉक्टर से उनकी फीस जमाकरने को लेकर तकरार हो गई। इस दौरान  महिला डॉक्टर ने पुलिस को फोन कर दिया। आरोप है कि अस्पताल में पहुंची पुलिस ने तीमारदार अंकुर गुप्ता को पीट दिया। इसको लेकर अंकुर ने हंगामा करना शुरू कर दिया। उसके समर्थन में अस्पताल में दवा लेने आए तमाम अन्य लोग भी शामिल हो गए। हंगामे की सूचना मिलने पर सीओ सिटी हरिराम वर्मा, कोतवाल नागेश्वर मिश्र भी अस्पताल पहुंच गए। दोनों अधिकारियों ने पीड़ित की बात सुनी और डॉक्टर से भी जानकारी ली। साथ ही पीड़ित से तहरीर लेकर दोषी के खिलाफ कार्रवाई करने का अश्वासन दिया। 

तीमारदार ने लगाए आरोप
पुलिस की मार से परेशान अंकुर ने बताया कि सुबह के समय उसकी पत्नी ज्योति बेटे के साथ अस्पताल आई थी। अस्पताल में उससे पैसे मांगे गए। इसके बाद वह अपने बेटे को लेकर अस्पताल पहुंचा और डॉक्टर से पैसे लेने की वजह पूंछी और रसीद देने की बात कहीं। इस बात से डॉक्टर भड़क गई और पुलिस को बुलाकर उसको पिटवा दिया। पुलिस ने भी जानकारी किए बिना ही उसके साथ मारपीट कर दी। 

दो घंटे चला हंगामा पुलिस के पहुंचने के बाद आए सीएमएस
अस्पताल में गुरुवार को करीब दो घंटा हंगामा होता रहा। इस दौरान अस्पताल का पूरा स्टाफ भी पहुंच गया।  इसके बाद भी जिला अस्पताल के सीएमएस डॉ मनोज कुमार नहीं पहुंचे। अस्पताल में सीओ और कोतवाल के आने और उनके बुलाने के बाद सीएमएस अपने चैंबर में पहुंचे। 

विवाद बढ़ने और तीमारदार के क्लिप बनाने पर बुलाई पुलिस
जिला अस्पताल की दंत चिकित्सक डॉ भिमेंदु गौतम ने बताया कि सरकारी नियम के अनुसार उससे दांत निकलवाने की फीस देने को कहा गया था। इस पर वह रौब दिखाने लगा और मोबाइल से फोटो और क्लिप बनाने लगा। इसका विरोध करने पर वह भड़क गया और हंगामा करने लगा। अपनी सुरक्षा को देखते हुए पुलिस को फोनकर बुलाया था। 

दोनों पक्षों ने एक दूसरे के खिलाफ दी तहरीर
जिला अस्पताल में हुए हंगामे के बाद दोनों पक्षों ने एक दूसरे के खिलाफ तहरीर पुलिस को दी। डॉक्टर ने अपनी दी तहरीर में सरकारी काम में बाधा पहुंचाने, अभद़्रता करने, बिना परमीशिन के फोटो और वीडियों बनाने के खिलाफ तहरीर पुलिस को दी है। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:police beaten care taker in district hospital