DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अफसरों की लेटलतीफी से अटकी विधवाओं की पेंशन

अफसरों की लेटलतीफी से अटकी विधवाओं की पेंशन

मुख्यमंत्री योगी जरूरतमंदों तक कल्याणकारी योजनाओं का लाभ पहुंचाने में कोई कसर न छोड़ने की अफसरों को नसीहत दे चुके हैं। मगर बरेली की सरकारी मशीनरी पर यह आदेश बेअसर हैं। विधवा पेंशन के 2408 आवेदन बीडीओ और एसडीएम के यहां ऑनलाइन रिपोर्ट लगने का इंतजार कर रहे हैं। डिप्टी सीपीओ ने डीएम को रिपोर्ट भेजकर अधिकारियों की लापरवाही के बारे में जानकारी दी है। योगी सरकार ने विधवा पेंशन के आवेदन करने से लेकर जांच होने तक पूरी प्रक्रिया ऑनलाइन करा दी है। सीधे पोर्टल पर ऑनलाइन आवेदन किया जाता है। जो ब्लॉक के बीडीओ को ऑनलाइन भेजा जाता है। ग्रामीण इलाकों के आवेदनों पर बीडीओ ऑनलाइन रिपोर्ट लगाकर डीपीओ को भेजते हैं, जबकि नगर निकायों में रहने वाली महिलाओं के आवेदन पर एसडीएम रिपोर्ट लगाते हैं। बीडीओ और सीडीओ की रिपोर्ट लगने के बाद जिला प्रोबेशन अधिकारी पेंशन रिलीज करते हैं। पेंशन सीधे लाभार्थी के बैंक खाते में जाती है। बरेली के बीडीओ और एसडीएम ने गरीब विधवाओं की पेंशन लेट करा दी है। जून और जुलाई में अब तक सिर्फ 5 आवेदन पर रिपोर्ट लगाई है, जबकि 2408 का अभी भी आवेदन नहीं हुआ है। बीडीओ के पास 1435 आवेदन लंबित हैं, जबकि एसडीएम के यहां 973 आवेदन रिपोर्ट लगने का इंतजार कर रहे हैं।

हम लगातार एसडीएम और बीडीओ को रिमाइंडर भेजकर विधवा पेंशनों के फार्म पर रिपोर्ट लगाने को कह रहे हैं। बीडीओ और एसडीएम की रिपोर्ट न लगने की वजह से विधावा पेंशन के काफी फार्म लंबित हैं। डीएम को रिपोर्ट भेज दी है।

नीता अहिरवार, डिप्टी सीपीओ

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: Pensioners stuck with delayed officers