DA Image
30 नवंबर, 2020|10:40|IST

अगली स्टोरी

विकास के मुद्दे नहीं अब बैठक एजेंडे पर होगी आरपार

विकास के मुद्दे नहीं अब बैठक एजेंडे पर होगी आरपार

शहर में विकास के मुद्दे से हटकर अब बैठक एजेंडे पर पार्षद, नगर निगम अधिकारी आमने सामने हो गए है। इस बार नगर निगम की कार्यकारिणी बैठक एजेंडे में शामिल प्रस्तावों को लेकर बहस छिड़ी है। पार्षदों ने एजेंडे के प्रस्तावों पर आपत्ति लगाकर विरोध शुरू कर दिया है। मंगलवार को कार्यकारिणी की बैठक में प्रस्तावों को लेकर बहस होगी।

नगर निगम में कार्यकारिणी समिति की बैठक मंगलवार सुबह साढ़े ग्यारह बजे मेयर कार्यालय पर बुलाई गई है। नियमानुसार नगर निगम ने शनिवार को बैठक का एजेंडा जारी कर सभी पार्षदों को बंटवा दिया। एजेंडा की कापी देखते ही पार्षदों का विरोध तेज हो गया है। बैठक के लिए नगर निगम की ओर से 13 प्रस्ताव लगाए गए हैं। भाजपा पार्षद सतीश चंद्र सक्सेना और सपा पार्षद दल नेता राजेश अग्रवाल ने आठ प्रस्ताव गलत शामिल किए जाने के आरोप लगाए हैं। उनका कहना है कि प्रस्ताव संख्या पांच से 12 तक कार्यकारिणी समिति के अधिकार क्षेत्र के नहीं हैं। एजेंडा प्रभारी ने नियम विरुद्ध एजेंडा जारी किया है। उनका कहना है कि लगाए गए आठ प्रस्ताव नगर निगम बोर्ड की शक्तियों के हैं। इन प्रस्तावों का पालन कराना नगर निगम अधिनियम के विरुद्ध होगा। जारी एजेंडे के खिलाफ पार्षदों ने नगर आयुक्त को पत्र भेजा है। गलत प्रस्ताव लगे होने के कारण होने वाली कार्यकारिणी की बैठक में हंगामा होने के आसार बन गए हैं। इसलिए बैठक में विकास पर कम गलत एजेंडे पर ही चर्चा होने के आशंका है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Now meeting will not be on the agenda of development