ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशजाम से निजात दिलाने की कार्ययोजना पर नहीं हुआ काम

जाम से निजात दिलाने की कार्ययोजना पर नहीं हुआ काम

111 करोड़ की लागत से तैयार हुआ महादेव सेतु आम जनता के लिए राहत कम दर्द ज्यादा दे रहा है। ख्वाब दिखाए गए थे कि महादेव सेतु बनने के बाद यहां जाम नहीं...

111 करोड़ की लागत से तैयार हुआ महादेव सेतु आम जनता के लिए राहत कम दर्द ज्यादा दे रहा है। ख्वाब दिखाए गए थे कि महादेव सेतु बनने के बाद यहां जाम नहीं...
1/ 3111 करोड़ की लागत से तैयार हुआ महादेव सेतु आम जनता के लिए राहत कम दर्द ज्यादा दे रहा है। ख्वाब दिखाए गए थे कि महादेव सेतु बनने के बाद यहां जाम नहीं...
111 करोड़ की लागत से तैयार हुआ महादेव सेतु आम जनता के लिए राहत कम दर्द ज्यादा दे रहा है। ख्वाब दिखाए गए थे कि महादेव सेतु बनने के बाद यहां जाम नहीं...
2/ 3111 करोड़ की लागत से तैयार हुआ महादेव सेतु आम जनता के लिए राहत कम दर्द ज्यादा दे रहा है। ख्वाब दिखाए गए थे कि महादेव सेतु बनने के बाद यहां जाम नहीं...
111 करोड़ की लागत से तैयार हुआ महादेव सेतु आम जनता के लिए राहत कम दर्द ज्यादा दे रहा है। ख्वाब दिखाए गए थे कि महादेव सेतु बनने के बाद यहां जाम नहीं...
3/ 3111 करोड़ की लागत से तैयार हुआ महादेव सेतु आम जनता के लिए राहत कम दर्द ज्यादा दे रहा है। ख्वाब दिखाए गए थे कि महादेव सेतु बनने के बाद यहां जाम नहीं...
जाम से निजात दिलाने की कार्ययोजना पर नहीं हुआ काम
हिन्दुस्तान टीम,बरेलीTue, 25 Jun 2024 02:30 AM
ऐप पर पढ़ें

111 करोड़ की लागत से तैयार हुआ महादेव सेतु आम जनता के लिए राहत कम दर्द ज्यादा दे रहा है। ख्वाब दिखाए गए थे कि महादेव सेतु बनने के बाद यहां जाम नहीं लगेगा। मगर, जनता को राहत मिलती नजर नहीं आ रही है। महादेव सेतु के कारण नावल्टी चौराहा, जीआईसी रोड और जिला पंचायत रोड पर भी जाम लगने लगा है। इसके अलावा कोहाड़ापीर पर भी जाम की समस्या आम हो गई है।
महादेव सेतु के पास जाम की समस्या से निपटने के लिए बीते 19 मार्च को कमिश्नर सौम्या अग्रवाल, आईजी डॉ. राकेश सिंह और नगरायुक्त निधि गुप्ता वत्स ने एक साथ निरीक्षण कर अपने अधीनस्थों को कुछ जरूरी दिशा निर्देश दिए थे। निरीक्षण के दौरान कहा था कि कोतवाली से नावेल्टी चौराहे तक बिजली के पोल को सड़क के बिल्कुल किनारे किया जाए। नॉवल्टी चौराहे पर दोनों तरफ जितने भी बिजली के पोल आ रहे हैं, उनको रोड से पीछे ले जाकर बिल्डिंग लाइन से उचित दूरी रखते हुए लगाया जाए। कोहाड़ापीर साइड पर पुल से उतरते ही दाहिनी ओर सड़क किनारे के ट्रांसफार्मर को नैनीताल रोड पर जहां पेट्रोल पंप की सीमा समाप्त होती है, वहां स्थापित किया जाए। कलम दवात तिराहा को मूर्ति से महज 2.5 फीट जगह छोड़ते हुए अन्य भाग को यातायात के लिए खाली छोड़ा जाए। यहां पर स्थापित आईसीसीसी के जंक्शन बाक्स को डिवाइडर के ऊपर स्थापित किया जाए। कोहाड़ापीर से नैनीताल रोड की तरफ रोड के दोनों साइड जगह लेते हुए सड़कों का चौड़ीकरण कर दिया जाए। रोड पर आ रहे सभी पोल को किनारे शिफ्ट किया जाए। पुल से उतरने के बाद कोहाड़ापीर पर दाई ओर जहां तक संभव हो सड़क का चौड़ीकरण किया जाए। इसमें बिजली पोल शिफ्टिंग का काम हुआ है। ट्रांसफार्मर शिफ्ट नहीं किया। न चौड़ीकरण का बजट तय हुआ है।

वर्जन

सड़क चौड़ीकरण समेत अन्य कामों को जल्द ही कराया जाएगा। इसके लिए संबंधिक अधिकारियों को रिपोर्ट मांगी है। काम को तेजी से कराया जाएगा।

निधि गुप्ता वत्स, नगरायुक्त

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।