DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आग प्रकरण : ऊंची इमारतों पर आग से लड़ने को इन्होंने मांगी 42 मीटर ऊंची सीढ़ी 

शहर में बन रहे दस -बारह मंजिला अपार्टमेंट्स में यदि आग लग जाए तो उसे बुझाने के लिए अग्निशमन विभाग के पास सीढ़ियां नहीं हैं। ऐसी अनहोनी से बचाव के लिए मुख्य अग्निशमन अधिकारी ने मंडलायुक्त से 42 मीटर ऊंची सीढ़ी के लिए बीडीए, नगर निगम के संसाधनों से मुहैया कराने की बात कही है। यह स्वचालित सीढ़ियां इटली से आनी हैं। इसके लिए एस्टीमेट लिया जा चुका है। इस स्वचालित सीढ़ी की कीमत लगभग सात करोड़ रुपये है। 

गुजरात में कोचिंग सेंटर में हुए हादसे के बाद चेते अग्निशमन विभाग ने अपने पास स्थिति देखी तो उसके पास चार मंजिला भवन तक पहुंचने के लिए भी सीढ़ियां नहीं है। दो दिन पूर्व दिल्ली के एम्स में आग लगने की घटना के बाद यह चिंता गंभीर हो गई है। शहर में साल दर साल तीन मीटर से लेकर 39 मीटर तक आवासीय अपार्टमेंट्स का निर्माण चल रहा है और कुछ प्रस्तावित भी हैं। इन अपार्टमेंटस में तो आग से बचाव के उपाय तो किए जा रहे हैं लेकिन अनहोनी से निपटने के लिए अग्निशमन विभाग के पास सुरक्षा के कोई इंतजाम नहीं है। 

मुख्य अग्निशमन अधिकारी ने पत्र में कहा कि गुजरात में तक्षशिला नामक बहुमंजिला इमारत में आग लगने से 23 छात्रों की मौत हो गइ थी। इनमें से कई की खिड़की से कूदने के दौरान मौत हुई थी। वहां की जांच रिपोर्ट में पाया गया है कि अग्निशमन विभाग के पास ऊंची सीढ़ियों की उपलब्धता होती तो जनहानि कम हो सकती थी। उन्होंने कहा कि विकास की गतिविधियों के साथ ही जिले में लगभग 40 मीटर ऊंचे भवन प्रस्तावित हैं। जबकि विभाग के पास केवल 10.67 मीटर की ऊंचाई तक पहुंचने के लिए ही सीढ़ियां उपलब्ध हैं।

इटली की सीढ़ियां हैं उपयोगी

जिले में अग्निशमन और जीवन रक्षा प्रणाली को ध्यान में रखते हुए कमिश्नर ने ही सीएफओ चन्द्र मोहन शर्मा को स्वचालित सीढ़ियों की उपलब्धता के बारे में बताने को कहा था। इसके बाद सीएफओ ने इटली के भारतीय डीलर से सीढ़ियों का एस्टीमेट लिया। यह एस्टीमेट पिछले सप्ताह ही मिला है। इसमें 42/44 मीटर हाइड्रोलिक प्लेटफार्म यानि स्वचालित सीढ़ी की कीमत सात करोड़ 39 लाख 42 हजार रुपए है। इसमें छह लाख 93 हजार यूरो सीढ़ियों की बेसिक कीमत यातायात व्यय शामिल है। इसे विदेशी मुद्रा में भुगतान किया जाना है। शहर में 35 से ज्यादा इमारतों की सूची भी मंडलायुक्त को सौंपी गई है।

ये हैं ऊंची इमारतें 

  • एक्जीक्यूटिव क्लब रोड पर अपार्टमेंट भवन -39 मीटर
  • आशीष रायल टावर ग्रुप हाउससिंग अपार्टमेंट- 30मी
  • ट्यूलिप टावर पीलीभीत रोड- 31. 43 मीटर
  • ट्यूलिप इंफ्रा,तुलाशेरपुर पीलीभीत रोड-  29.80 मीटर
  • अपार्टमेंट भवन,अक्षर विहार सिविल लाइंस-29.08मी.
  • ट्यूपिल पिंक, बिहारमान नगला, 27 मीटर
  • रुद्राक्ष अपार्टमेंट,डोहरा लालपुर- 23.75 मीटर
  • कृष्णा काउंटी, कर्मचारी नगर- 22.67 मीटर
  • रुहेलखंड मेडिकल कालेज पीलीभीत रोड- 27 मीटर
  • ग्रुप हाउसिंग भवन अलखनाथ मंदिर रोड- 27.86 मी.
  • मेगा ड्रीम होम, सैदपुर हाकिंस- 28.250 मीटर
  • शवाना हाइट्स, ग्रीन पार्क-  23.50 मीटर 
  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:news of incident of burned in bareilly