news of ayushman yojna in bareilly - उत्तर प्रदेश में बरेली ने लखनऊ को इस काम में पछाड़ा, चौथे नंबर पर गोरखपुर DA Image
10 दिसंबर, 2019|3:08|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

उत्तर प्रदेश में बरेली ने लखनऊ को इस काम में पछाड़ा, चौथे नंबर पर गोरखपुर

आयुष्मान मरीजों को इलाज मुहैया कराने में लखनऊ यूपी में तीसरे पायदान पर है। पहले स्थान पर वाराणसी है। दूसरे पायदान पर बरेली और चौथे स्थान पर गोरखपुर है। प्रधानमंत्री आयुष्मान योजना का हाल जानने के लिए राज्यपाल आनंदी बेन पटेल ने सोमवार को बैठक बुलाई है। इसमें लखनऊ सीएमओ कार्यालय के अफसर भी शामिल होंगे।

लखनऊ में अब तक 11 हजार 75 मरीजों का इलाज

डिप्टी सीएमओ आयुष्मान योजना डॉ. वाईके सिंह के मुताबिक अब तक 11 हजार 75 मरीजों को इलाज उपलब्ध कराया जा चुका है। इसमें दिल के मरीजों को स्टेंट डाले गए हैं। सड़क हादसे में घायलों का रॉड आदि लगाई जा चुकी है। कैंसर मरीजों को कीमोथेरेपी समेत दूसरा इलाज मुहैया कराया जा चुका है। अकेले सरकारी अस्पतालों में 56 सौ मरीजों को इलाज मिल चुका है। वहीं प्राइवेट में 5775 मरीजों को राहत मिली।

पांच लाख रुपये तक का इलाज

डॉ. वाईके सिंह ने बताया कि प्रधानमंत्री आयुष्मान योजना के तहत बीपीएल व गरीब मरीजों को पांच लाख रुपये तक के इलाज का प्रावधान है। इसके लिए सरकारी व पंजीकृत अस्पतालों में गोल्डेन कार्ड बनाए जा रहे हैं। इस कार्ड को दिखाने के बाद मरीज इलाज हासिल कर सकते हैं। भर्ती या फिर डे-केयर मरीज को मुफ्त इलाज का प्रावधान है। 

यहां करें शिकायत

आयुष्मान योजना के गोल्डन कार्ड बनने या फिर इलाज में किसी तरह की अड़चन आ रही हे तो टोल फ्री नम्बर 14555 पर शिकायत दर्ज करा सकते है। साथ ही योजना में उनका नाम जुड़ा है या नहीं इसका भी पता लगा सकते हैं।

159 अस्पतालों में सुविधा

23 सितम्बर 2017 को प्रधानमंत्री ने आयुष्मान योजना का शुभारंभ किया था। लखनऊ में 159 अस्पताल योजना के तहत पंजीकृत हैं। सरकारी अस्पतालों में 19 सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र, पीजीआई, लोहिया संस्थान, केजीएमयू, बलरामपुर, सिविल, लोहिया, डफरिन, झलकारीबाई, रानी लक्ष्मीबाई, लोकबंधु शामिल हैं। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:news of ayushman yojna in bareilly