DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एनआईसी ने तोड़ दिए डिजिटल इंडिया के सपने, वेबसाइट ठप

एनआईसी ने तोड़ दिए डिजिटल इंडिया के सपने, वेबसाइट ठप

हाउस, वाटर टैक्स जमा करने वाले के लिए एक नई मुसीबत खड़ी हो गई है। डिजिटल इंडिया का दम भरने वाले नगर निगम अफसरों और एनआईसी के बीच विवाद बन गया है। जिसकी वजह से आॠनलाइन सिस्टम ठप है।

आॠनलाइन सिस्टम करने के दावों की पोल खुलकर सामने आ गई है। नगर निगम के टैक्स विभाग की अनदेखी और लापरवाही की वजह से पिछले कई महीनों से आॠनलाइन सिस्टम पूरी तरह ठप पड़ा है। जिस वजह से आॠनलाइन टैक्स जमा करने वाले लोगों को मुसीबतों का सामना करना पड़ रहा है, साथ ही नगर निगम आकर टैक्स की डिटेल लेकर जमा करने वाले भी परेशान हैं। कुछ माह पहले नगर निगम की वेबसाइट को सीधे एनआईसी से जोड़ने की कवायद शुरु की गई थी। जिसके चलते नगर निगम के तमाम टैक्स बिलों को और करदाताओं के खातों को पारदर्शी बनाने के लिए केंद्र और राज्य सरकार के निर्देश थे। इसके अनुपालन में नगर निगम के टैक्स विभाग ने अभी तक वेबसाइट को अपडेट नहीं कराया है। मुख्य कर निर्धारण अधिकारी आरके सोनकर का कहना है कि एनआईसी की तरफ से वेबसाइट अपडेट नहीं की जा रही है। लोगों को हम मैनुअल टैक्स बिल जारी कर रहे है। एनआईसी लखनऊ को रिमाइंडर भेज दिया गया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Municipal online system stalled