DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पिज्जा-बर्गर की तरह घर पहुंचेंगी दवाएं

पिज्जा-बर्गर की तरह घर पहुंचेंगी दवाएं

बीमार लोगों, खासकर अकेले रहने वाले बुजुर्गों के लिए अच्छी खबर है। वक्त-बे-वक्त दवा खत्म हो जाने पर उनको परेशान नहीं होना पड़ेगा। विशेष तौर पर उम्रदराज लोगों को, जो करीब किसी न किसी बीमारी से परेशान होते हैं और उनकी दवा लंबे समय तक चलती है। अब पिज्जा-बर्गर की तर्ज पर दवाओं की भी होम डिलीवरी शुरू हो गई है। यह अनूठी पहल की है 'दवाई बैंक' ने, आनलाइन 100 रुपये या अधिक का आर्डर करने पर 20 प्रतिशत की छूट भी मिलेगी।दवाई बैंक के संस्थापक और सीईओ रोहित सूरी राजेंद्रनगर के रहने वाले हैं और इस समय दिल्ली में रहते हैं। लखनऊ आईआईएम और कानपुर एचबीटीआई के छात्र रहे रोहित सूरी करीब 15 साल तक अलग-अलग कारपोरेट सेक्टर से जुडे़ रहे। उसके बाद उन्होंने दवाई बैंक की स्थापना की और अब प्रभातनगर में इसका स्टोर खुल गया है। यहां इसका संचालन राहुल कपूर कर रहे हैं।--क्या है दवाई बैंकदवाई बैंक मेडिसिन का स्टोर है। यहां आनलाइन दवाएं खरीदी जा सकती हैं। वैसे तो रिटेल पर दवाएं मिलती हैं लेेकिन होम डिलिवरी की सुविधा 100 रुपये या अधिक की दवाओं पर ही है। साथ ही 20 प्रतिशत की छूट भी मिलेगी। इसमें 10 प्रतिशत कंपनी की तरफ से छूट है और 10 फीसदी छूट दवाई बैंक दे रहा है।--कैसे करें दवाओं का आर्डरएंड्रावड मोबाइल फोन में गूगल प्ले स्टोर पर दवाई बैंक टाइप करें। वहां से दवाई बैंक अप्लीकेशन डाउनलोड करने के बाद उसमें शहर का नाम भरना होता है। शहर का नाम भरने के बाद अप्लीकेशन खोलने पर कई केटेगरी दिखेगी। इसमें मेडिसिन, लैब टेस्ट, प्रोडक्ट्स, रिकार्ड, आर्टिकल, कैश प्वाइंट शामिल है। अगर दवा खरीदनी है तो मेडिसिन ओपन करना होगा। उसमें दवा का पर्चा अपलोड करने का विकल्प आता है। पर्चा भेजने पर आनलाइन बुकिंग हो जाएगी।--ये मिलेगी सहूलियत- घर बैठे दवाएं पहुंच जाएंगी। इससे उन लोगों को विशेष फायदा होगा जो अकेले रहते हैं या फिर चलने-फिरने में असमर्थ हैं।- इलाज और दवाओं से जुड़े सारे रिकार्ड इसमें स्टोर किए जा सकते हैं।- स्वास्थ्य और दवाओं से जुड़े लेख, अपडेट भी इस अप्लीकेशन में पढ़े जा सकते हैं।--हमारी कोशिश है कि बीमार लोगों की परेशानी कम की जा सके। हम न केवल दवाओं की होम डिलीवरी कर रहे हैं बल्कि दवाओं की कीमतों में भी छूट दी जा रही है। इसके लिए यह जरूरी है कि डाक्टर का पर्चा या साल्ट का नाम अप्लीकेशन पर अपलोड किया जाए। आनलाइन बुकिंग होने से घर बैठे ही दवाएं मंगाई जा सकती हैं। - राहुल कपूर, दवाई बैंक संचालक

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:make a call and medicine will reach at your home