DA Image
24 सितम्बर, 2020|5:14|IST

अगली स्टोरी

रामगंगा के पानी को वाटर बॉक्स से आपूर्ति को लिखा पत्र

रामगंगा के पानी को वाटर बॉक्स से आपूर्ति को लिखा पत्र

खादर के गांवों का पानी बुरी तरह प्रदूषित है। पानी प्रदूषित होने की पुष्टि जल निगम द्वारा गत वर्ष जांच में हो चुकी है। विकल्प न होने के कारण 27 गांवों के ग्रामीण प्रदूषित पानी पीने को मजबूर हैं। विधायक डॉ डीसी वर्मा ने इन गांवों में रामगंगा के पानी को वाटर बॉक्स के माध्यम से गांवों में आपूर्ति करने को प्रदेश के जल शक्ति मंत्री को पत्र भेजा है। विधायक ने वैकल्पिक व्यवस्था को इन गांवों के इंडिया मार्का हैंड पम्पों में आर्सेनिक व फ्लोराइड रिमूवल यूनिट लगाने की मांग की है।

खादर के लगभग 27 गांवों में भूमिगत पानी बुरी तरह प्रदूषित है। जिससे इन गांवों के ग्रामीण कैंसर से बेमौत मर रहे हैं। जल निगम ने गत वर्ष इन गांवों के सरकारी हैंडपम्पों के पानी की जांच कराई थी। जांच में पानी प्रदूषित निकला। ग्रामीणों की जिंदगी बचाने को जल निगम ने गत वर्ष प्रभावित गांवों में सर्वे करके रामगंगा व दूसरी नदियों का पानी साफ कर ओवरहेड टैंक के माध्यम से ग्रामीणों को उपलब्ध कराने का प्रस्ताव शासन को भेजा था। प्रस्ताव शासन में पड़ा धूल चाट रहा है। उल्लेखनीय है कि 25 गांवों में 207 में 3.74 करोड़ की लागत से आर्सेनिक रिमूवल यूनिट लगाने की योजना भी शासन में लंबित है।

विधायक निधि से दिए थे 17 लाख

कैंसर से सबसे ज्यादा प्रभावित गांव बहरोली में विधायक ने अपनी निधि से 17 लाख रुपये टीटीएसपी लगाने को जल निगम को दिए थे। जल निगम गांव में टीटीएसपी लगा कर शुद्ध पेयजल आर्पूित को टोंटी स्टैंड बना चुका है। टीटीएसपी से पेयजल की आपूर्ति अभी शुरू नहीं हुई है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Letter written to supply Ramganga water with water box