DA Image
23 अक्तूबर, 2020|2:19|IST

अगली स्टोरी

बच्ची को निवाला बनाने वाला तेंदुआ पकड़ा, दूसरा दिखा

बच्ची को निवाला बनाने वाला तेंदुआ पकड़ा, दूसरा दिखा

शीशगढ़ के बुझिया गांव में बच्ची को निवाला बनाने वाले तेंदुए को पिंजरे में कैद कर लिया गया। कैद हुए तेंदुए को लेकर टीम बिजनौर के जंगल में छोड़ने चली गई। वहीं, शाम को लोगों ने गांव के पास बाग में दूसरा तेंदुआ देखकर वीडियो बना ली। ग्रामीण पहले ही दो तेंदुए होने का दावा कर रहे थे। अब गुरुवार को फिर से पिंजरा लगाकर दूसरे तेंदुए को पकड़ने की कवायद होगी।

सोमवार रात शीशगढ़ थाना क्षेत्र के गांव बुझिया में किसान बबलू की 12 वर्षीय बेटी उपासना को तेंदुए ने शिकार बनाया था। सोमवार रात 8:00 बजे बच्ची दुकान से पेंसिल लेने जा रही थी, घात लगाए बैठे तेंदुए ने उसे अपना निवाला बना लिया था। तलाशने निकले परिजनों ने खून देखा और निशानों का पीछा किया तो कई जगह खून व तेंदुए के पंजे के निशान मिले थे। अगले दिन उसका अधखाया शव मिल सका था। वन विभाग की टीम ने रात को एक पिजरा गन्ने के खेत में लगाया। जब सुबह को देखा तो तेंदुआ पिंजरे में कैद था और दहाड़े मार रहा था। जिसे देखने को गांव के लोगों की भीड़ लग गई। आसपास के गांव से भी भीड़ जुट गई। इंस्पेक्टर शीशगढ़ राजकुमार तिवारी ने बताया कि ग्रामीणों ने तेंदुए की वीडियो भेजी है। वीडियो वन विभाग को भी भेज दी गई है। ग्रामीणों से सतर्क रहने को कहा है।

बंजरिया खमरिया रोड पर देखा गया दूसरा तेंदुआ

शीशगढ़। बुझिया के पास के ही गांव बंजरिया के पास रात करीब 8:30 बजे बंजरिया, खमरिया, व बुझिया के लगभग दर्जन भर ग्रामीणों ने तेंदुए को बाग में देखा और उसकी वीडियो भी बना ली। वीडियो पुलिस व वन विभाग के अफसरों को भी भेजी गई है। बुझिया के मेघनाद ने बताया कि जो तेंदुआ हम लोगों ने रात को देखा है वह पकड़े गए तेंदुए के मुकाबले आकार में बड़ा है।

बंजरिया के रीतेन्द्र सिंह ने बताया कि बंजरिया हम लोगों ने हथौड़ी से आवाज कर तेन्दुए को जंगल मे भगा दिया। गांव में तेंदुए की दहशत बरकरार है।

मान नहीं रहे थे वन अफसर

बुझिया के राकेश ने बताया कि दूसरे तेन्दुए की बात वन अधिकारियों को बताई थी मगर कोई भी मानने को तैयार नहीं था। अब वीडियो भी सबूत के लिए भेज दी है। गांव वाले सतर्क हैं मगर खतरा बना हुआ है। दूसरा तेंदुआ भी जल्द पकड़ा नहीं गया तो अनहोनी हो सकती है।

तेंदुए को पकड़ लिया गया है उसे बिजनौर के अमानगर जंगल में छोड़ा जाएगा। तेंदुए का पिंजरा लेकर टीम बिजनौर की ओर रवाना हो गई है। जल्द ही पिंजरा फिर से गांव के बाहर फिर लगा दिया जाएगा।

- रवींद्र सक्सेना, रेंजर

गांव वालों ने ली राहत की सांस

तेंदुआ पकड़े जाने के बाद गांव के लोगों ने राहत की सांस ली है। पिछले करीब एक सप्ताह से तेंदुआ को इलाके में देखा जा रहा था। जब बच्ची का शिकार बना दिया, तो गांव में दहशत फैल गई। लोग अपने बच्चों को घरों से बाहर नहीं निकलने दे रहे थे। लोगों ने खेती किसानी करना छोड़ दिया था। अपने जानवरों को भी घरों के बांध रहे थे। अब राहत की सांस ली है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Leopard caught holding baby girl second show