DA Image
6 अगस्त, 2020|7:19|IST

अगली स्टोरी

मजदूर दिवस : दुबई से हिन्दुस्तान की हिफाजत की दुआ कर रहे जरी कारीगर

मजदूर दिवस : दुबई से हिन्दुस्तान की हिफाजत की दुआ कर रहे जरी कारीगर

कोरोना मुक्त हुए बरेली में फिर से वायरस ने दस्तक दे दी है। सुभाषनगर के बाद अब हजियापुर में कोरोना का संक्रमण फैल गया है। हजियापुर के जरी जरदोजी कारीगर इन दिनों दुबई में हैं। परिवार को लेकर वो बेचैन है। रमजान के महीने में रोजा रख परिवार और हिन्दुस्तान कोरोना से महफूज रहे दुआ कर रहे है।

लॉकडाउन की वजह से बरेली मंडल से ऐसे तमाम लोग खाड़ी देशों में फंसे हुए हैं। हिन्दुस्तान टीम से दुबई गए जरी कारीगरों ने फोन से बातचीत की है। दुआ करते हुए उन्होंने फोटो भी भेजे हैं। मेहनत मजदूरी कर परिवार का भरण पोषण करने वाले जरी जरदोजी कारीगर पैसे कमाने के लिए खाड़ी देश पहुंचे। वहां जाने के बाद उन्हें काम मिला ही था कि कोरोना वायरस ने कहर भरपाना शुरू कर दिया।

जरी के कामों में हुनर दिखाने वाले कारीगर अब अपने वतन और परिवार की फिक्र में दुआ कर रहे हैं। रमजान का महीने में रोजा नमाज, कुरआन की तिलावत कर दुआ कर रहे हैं। हजिरयापुर में कोरोना संक्रमित केस सामने आने के बाद दुबई गए इकरार, वसीम रजा, काशिफ रजा और सैय्यद शब्बू मियां बेचैन हैं। उन्होंने बताया कि दुबई में भी कोरोना को लेकर सख्ती बरती जा रही है।

हमें अपने वतन और परिवार की चिंता सता रही है। मोबाइल फोन के जरिए ही हम उनकी खैरियत ले रहे है। उन्होंने बताया कि जब से कोरोना महामारी फैली है वापस आने के तमाम रास्ते बंद हो गए हैं। हवाई जहाज सेवा तक बंद हो गई है। घरों में ही काम कर रोजा रख रहे हैं। वीडियो कॉलिंग के जरिए परिवार से बात दुबई में जरी कारीगर सैय्यद शब्बू मियां ने बताया कि जब से यह मालूम चला है कि हजियापुर में कोरोना वायरस फेल गया और एक की मौत हो गई है, तभी से हम सभी लोग फिक्रमंद है।

मोबाइल की वीडियों कॉलिंग के जरिए हम परिवार को देख और बात कर रहे हैं। दुबई और हिन्दुस्तान के इफ्तार और नमाज के वक्त में अंतर है। जब हम लोग नमाज पढ़ते है तो घर से फोन आ जाता है। ऐसे में उनसे बात नहीं हो पाती है। जब हम फोन इंडिया करते हैं तो परिवार के लोग इबादत कर रहे होते है। कुछ वक्त के बाद हम लोगों का संपर्क परिवार से वीडियो कॉलिंग के जरिए होता है।

मंडल के जिलों से खाड़ी देश गए कारीगर, नौकरीपेशा बरेली सहित बदायूं, पीलीभीत, शाहजहांपुर, लखीमपुर खीरी सहित रामपुर, मुरादाबाद, अमरोहा, हापुड़, बुलंदशहर, गाजियाबाद और अलीगढ़ जैसे शहरों से जरी कारीगर, नौकरीपेशा लोग खाड़ी देश गए है। दुबई से छह माह पहले बरेली लौटे मल्टीनेशनल कंपनी में इंजीनियर रहे सैय्यद अहसन नकवी ने बताया कि इंडिया के काफी लोग खाड़ी देशों में है। कोई कारीगर, ड्राइविंग और बहुत से नौकरीपेशा है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Labor Day Brocade artisans praying for protection of India from Dubai