DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दहेज उत्पीड़न में पति व सास-ससुर को कैद

दहेज में दो लाख रुपये न मिलने पर विवाहिता के साथ मारपीट और उत्पीड़न करने के मामले में सीजेएम अनिल कुमार सेठ की अदालत ने पति व सास-ससुर को सश्रम तीन-तीन साल कैद की सजा सुनाई।

थाना इज्जतनगर में गीता राठौर ने रिपोर्ट दर्ज कराई थी। उनकी शादी चार अक्टूबर 2003 को जिला रामपुर के गांव सिर्रा के विजय पाल से हुई थी। गीता का आरोप था कि पति विजय, ससुर जयदेव, सास विमला देवी, देवर यशपाल और तहेरे जेठ हरपाल व रामेश्वर दयाल दहेज में दो लाख रुपये के लिए प्रताड़ित करते थे। पुत्रियों के जन्म के बाद ससुराल वालों ने वर्ष 2010 में गीता को मारपीट कर घर से निकाल दिया था। पुलिस ने आरोपी ससुराल वालों के खिलाफ दहेज उत्पीड़न में रिपोर्ट दर्ज की थी। अदालत ने सभी दोषियों पर पांच-पांच हजार का जुर्माना भी ठोका है। अदालत ने जुर्माना में से आधी राशि पीड़िता को देने का आदेश दिया है। वहीं, सबूतों के अभाव में अदालत ने देवर यशपाल और तहेरे जेठ हरपाल व रामेश्वर दयाल को बरी कर दिया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Husband, mother-in-law imprisonment in dowry harassment