DA Image
1 जुलाई, 2020|6:35|IST

अगली स्टोरी

हॉलैंड की तर्ज पर बन रहे स्कूल में तय नहीं कर पा रहे हेड, ये है वजह

हॉलैंड की तर्ज पर बन रहे स्कूल में तय नहीं कर पा रहे हेड, ये है वजह

बेसिक शिक्षा विभाग जसोली स्कूल को हालैंड की तर्ज पर विकसित करने का काम शुरू कर चुका है। उद्यमी शकील कुरैशी ने इस स्कूल को गोद लिया है जिस स्कूल में पढ़ाई पर सबसे ज्यादा जोर देने की बात है उस स्कूल का हेडमास्टर तय करने में विभाग को महीने भर से ज्यादा हो चुका है।

दरअसल प्राइमरी और जूनियर हाई स्कूल जसोली संविलियन के बाद एक ही स्कूल हो चुका है। यहां प्राइमरी और जूनियर के हेड मास्टर में से वरिष्ठ हेड मास्टर को चार्ज दिया जाना है। हरीश बाबू शर्मा अपनी जॉइनिंग 3 सितंबर 1993 की बताते हैं जबकि पूनम की जॉइनिंग 2005 की। इसी बात को लेकर विवाद चल रहा है। खंड शिक्षा अधिकारी देवेश राय भी अपनी रिपोर्ट बनाकर बीएसए विनय कुमार को दे चुके हैं। इसके बाद भी हेड के निर्धारण में लंबा समय लग रहा है। हेडशिप का यह विवाद लखनऊ तक भी गूंज चुका है। उसके बाद भी रास्ता नहीं निकल रहा है। बीएसए विनय कुमार ने बताया कि वरिष्ठता सूची के आधार पर जल्द ही हेड तय कर दिया जाएगा।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Head is unable to decide on the school being built on the lines of Holland this is the reason