DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

शिक्षकों की ट्रेनिंग के नाम पर डकारे 25 लाख

शिक्षकों की ट्रेनिंग के नाम पर डकारे 25 लाख

शैक्षिक गुणवत्ता बढ़ाने के लिए शासन ने 2099 स्कूलों के 4198 शिक्षकों को ग्रेडेड लर्निंग प्रोग्राम के तहत ट्रेनिंग दिलाई थी। टे्रनिंग के लिए 2518800 रुपये का बजट आया था। टे्रनिंग के दौरान डीए के रुप में खाने-पीने पर थोड़ा पैसा खर्च किया गया। टीए (ट्रैवलिंग एलाउंस) का पूरा पैसा अधिकारी डकार गए। शिक्षक संघ ने घोटाले का आरोप लगाते हुए जांच की मांग की है। 

वित्तीय वर्ष 2018-19 में बरेली के 4198 शिक्षकों को शैक्षिक गुणवत्ता की ट्रेनिंग दी गई थी। तीन चरणों में होने वाली ट्रेनिंग को बीएसए कार्यालय और डायट ने संयुक्त रुप से कराया था। बजट की जिम्मेदारी डायट को मिली हुई थी। वित्तीय वर्ष खत्म होने से पहले पैसा खपाने के लिए आनन-फानन में ट्रेनिंग करा दी गई। आरोप है कि टे्रनिंग के दौरान भी शिक्षकों को बेहद खराब नाश्ता दिया गया। डाइट खर्च ज्यादा दिखाने के लिए शिक्षकों की संख्या में भी गोलमाल किया गया। तमाम ऐसे शिक्षकों के नाम भी रजिस्टर में चढ़ा दिए गए जो टे्रनिंग में पहुंचे ही नहीं। नए वित्तीय वर्ष के तीन महीने के बाद भी किसी शिक्षक को टीए का भुगतान नहीं किया गया है। प्राथमिक शिक्षक संघ ने घोटाले का आरोप लगाते पूरे मामले की शिकायत की है। 

वित्तीय दखल नहीं थी हमारी

सर्वशिक्षा अभियान के जिला समन्वयक ट्रेनिंग डा बीपी सिंह ने बताया कि लर्निंग आउटकम की ट्रेनिंग के लिए हमारा अकादमिक सहयोग था। वित्तीय लेन-देन में हमारी कोई दखल नहीं थी। पूरा बजट डायट के स्तर से जारी हुआ था। बजट के संबंध में कोई जानकारी नहीं है। 

ब्लॉकों को भेज दिया गया बजट

डायट में सहायक विनीत पांडे ने बताया कि ट्रेनिंग के लिए लगभग तीस लाख रुपये का बजट आया था। प्रति टीचर 200 रुपये का बजट था। इसमें  ही टीए-डीए और ट्रेनिंग की व्यवस्था शामिल थी। इसको बीआरसी के खातों में भेज दिया गया। शिक्षक अपना यात्रा विवरण देकर पैसा ले सकते हैं।

घोटाले की होनी चाहिए जांच

प्राथमिक शिक्षक संघ बिथरी ब्लॉक अध्यक्ष केसी पटेल ने कहा कि ट्रेनिंग के नाम पर मोटा गोलमाल हुआ है। ट्रेनिंग में खानपान की व्यवस्था भी बेहद खराब थी। महीनों बीतने के बाद भी टीए का पैसा नहीं दिया गया है। लाखों रुपये के इस घोटाले की उच्च स्तरीय जांच होनी चाहिए। 

हर ब्लॉक में हुई थी टे्रनिंग

ब्लॉक-स्कूल-शिक्षक

आलमपुर-148-296

बिथरी-133-266

बहेड़ी-178-356

भुता-159-318

भदपुरा-136-272

भोजीपुरा-115-230

फरीदपुर-131-262

फतेहगंज-98-196

क्यारा-77-154

मझगवां-131-262

मीरगंज-112-224

नवाबगंज-175-350

शेरगढ़-136-272

रामनगर-98-196

दमखोदा-137-274

नगर क्षेत्र बरेली-135-270

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Dakare 25 lakhs in the name of training of teachers