DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

लोकसभा चुनाव 2019 : अबकी सी-विजिल एप भी चलवाएगा आचार संहिता के उल्लंघन पर डंडा

चुनाव को पूरी तरह से पारदर्शी बनाने को चुनाव आयोग इस बार कई तरह के प्रयोग कर रहा है। इसमें ‘सीविजिल एप’ सबसे महत्वपूर्ण है। इस पर आम नागरिक आदर्श आचार संहित के उल्लंघन की जानकारी दे सकेंगे।  सूचना मिलने के 100 मिनट के अंदर कार्रवाई की जाएगी। देशभर में इस एप को 18 मार्च को लांच किया जाएगा। चुनाव तक ही प्रभावी रहने वाला यह एप किसी भी एंड्रॉयड फोन पर आसानी से डाउनलोड हो जाएगा।

उप जिला निर्वाचन अधिकारी आरएस द्विवेदी ने बताया कि आदर्श आचार संहिता को प्रभावी ढंग से लागू कराने के मकसद से निर्वाचन आयोग ने सी-विजिल मोबाइल एप तैयार की है। 18 मार्च से सी-विजिल काम करना शुरू कर देगी। एप के जरिए आचार संहिता के उल्लंघन की वीडियो डाली जा सकेंगी। सी विजिल पर की जाने वाली शिकायत संबंधित अधिकारियों को ट्रांसफर हो जाएगी। इसके बाद उन्हें नियमत: कार्रवाई करनी होगी।

गोपनीय रहेगी पहचान
उप जिला निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि कोई भी आदमी कहीं भी यदि आचार संहित का उल्लंघन देखता है तो मिनट भर में घटना की रिपोर्ट कर सकता है। शिकायतकर्ता की पहचान गोपनीय रखी जाएगी। नागरिकों को शिकायत दर्ज कराने के लिए पीठासीन अधिकारी के कार्यालय की दौड़ नहीं लगानी पड़ेगी। एप पर शिकायत करने का तरीका भी बेहद आसान है।

लोकसभा चुनाव 2019 : प्रत्याशी का पता नहीं, सोशल मीडिया पर वोटिंग कराने लगे चेले-चपाटे

चरण-1 : कहीं भी आचार संहिता का उल्लंघन दिखने पर दो मिनट का एक वीडियो बनाएं। उसकी फोटो भी खींच सकते हैं। इसके बाद फोटो और वीडियो को उल्लंघन के सटीक लोकेशन के साथ सबमिट कर दें। यदि जगह की सही लोकेशन पता नहीं है तो जीपीएस ऑन करने पर एप खुद शिकायत के साथ लोकेशन भेज देगा। शिकायत भेजने के बाद शिकायतकर्ता को एक यूनिक आईडी मिलेगा। जिसके माध्यम से उन्हें कार्रवाई के बारे में अपडेट मिनता रहेगा। 

चरण-2 : सीविजिल एप पर सूचना मिलते ही उसकी जानकारी तुरंत जिला कंट्रोल रूम जाएगी। वहां से शिकायत के जगह की लोकेशन के साथ उसे फील्ड यूनिट को भेज दिया जाएगा। इसके बाद फील्ड की यूनिट मौके पर पहुंचकर नियमत: कार्रवाई करेगी।

चरण-3 : मौके पर पहुंचकर फील्ड यूनिट को लगेगा कि यह आचार संहित का उल्लंघन है तो वह सटीक कार्रवाई कर रिपोर्ट रिटर्निंग ऑफिसर को तुरंत ऑनलाइन देगा। साथ ही सूचना नेशनल ग्रीवांस पोर्टल व निर्वाचन आयोग को दी जाएगी। साथ ही आचार संहिता   के उल्लंघन पर क्या कार्रवाई की गई, इसकी जानकारी शिकायतकर्ता को भी 100 मिनट के अंदर दी जाएगी।

लोकसभा चुनाव 2019 : रुहेलखंड में युवा मतदाता ही लगाएंगे बेड़ा पार

ये भी जान लें

  • तस्वीर लेने या वीडियो बनाने के बाद यूजर्स को रिपोर्ट करने के लिए पांच मिनट का समय मिलेगा।
  • दुरुपयोग  रोकने को ऐप पहले से रिपोर्ट किए या पहले ली तस्वीरों-वीडियो अपलोड करने की अनुमति नहीं देगा।
  • सीविजिल’  ऐप का इस्तेमाल करते हुए फोटो और रिकॉर्डेड वीडियो को फोटो गैलरी में सेव करने की सुविधा नहीं होगी।

1950 पर भी दे सकते हैं सूचना
चुनाव में किसी भी आम आदमी को मतदान संबंधी कोई परेशानी न हो इसके लिए निर्वाचन आयोग ने हेल्पलाइन 1950 शुरू कर दी है। बरेली के सिविल डिफेंस ऑफिस में कंट्रोल रूम बनाया गया है। 1950 पर होने वाली शिकायतों को तुरंत निस्तारण के लिए ट्रांसफर भी किया जा रहा है। निर्वाचन आयोग ने इसके अलावा शिकायत के लिए  टोल फ्री नंबर 1800111950 भी जारी किया है।

दिव्यांग-बुजुर्गों के लिए हेल्प डेस्क
आयोग के आदेश पर सभी पोलिंग बूथों पर दिव्यांग और बुजुर्ग मतदाताओं के लिए हेल्प डेस्क रहेगी। हालांकि 1950 पर भी फोन कर दिव्यांग और बुजुर्ग मतदाता मदद ले सकते हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:C-vijil app will also run for violation of Code of Conduct