class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

लाचारी: विकलांग पति-पत्नी को भीख मांग कर देना पड़ रहा किराया

भीख मांग कर दे रहे किराया, डूडा नहीं दे रहा मकान

सर्दी की कड़कड़ाती ठंड हो, या बरसात की काली रात से जद्दोजहद करना मानो विकलांग कृष्णपाल और पत्नी माल देई की जिंदगी का हिस्सा बन गया है। सरकारी योजनाएं इन तक पहुंचने से कतराती है। आवास की दरकार में भटक रहे इस विकलांग से अधिकारी भी सीधे मुंह बात नहीं करते। पहले आसरा में मकान के लिए विकलांग दंपत्ति जद्दोजहद करते रहे अब प्रधानमंत्री आवास योजना में के लिए भागदौड़ कर रहे हैं। गरीबी ऐसी भीख मांगकर मकान का किराया देना पड़ रहा है।

गुस्साई गौटिया निवासी कृष्णपाल और पत्नी माल देई विकलांग हैं। पिछले पांच साल से इंदिरा, आसरा आवास के लिए प्रयास करते आ रहे हैं। आवेदन भी किए मगर पांच साल से सरकारी दफ्तरों के चक्कर काटने के अलावा उन्हें कुछ नहीं मिला। कृष्णपाल का कहना है कि 1500 रुपये किराये के मकान में रहते हैं। परिवार में दो बच्चे की परवरिश भी करनी है। कभी लोगों से पैसे लेकर मकान का किराया देते हैं। बहुत हो जाता है तो भीख मांगकर किराया देना पड़ता है। उन्होंने बताया कि डूडा से लेकर जिला प्रशासन में कई बार मकान के लिए आवेदन किए मगर कोई सुनवाई नहीं हुई।

विकलांग दंपत्ति ने जब सारी कोशिश मकान के लिए की मगर किसी विभागीय अधिकारी काम नहीं आए तो वो मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मिलने लखनऊ पहुंचे। उन्होंने सीएम दरबार पहुंचकर आवास दिलाने की गुहार लगाई। विकलांग की पात्रता देखकर सीएम ने संबंधित विभाग को दिशा निर्देश दिए। इसके बाद भी विकलांग दंपत्ति का आवेदन प्रधानमंत्री आवास योजना के पहले फेज में नहीं किया। कृष्णपाल जैसे सैकड़ों पात्र आज भी सरकारी दफ्तरों में आवेदन को भटक रहे है।

परियोजना अधिकारी विनय कुमार ने बताया कि डूडा विकलांग दंपत्ति कृष्णपाल और पत्नी का आवेदन प्रधानमंत्री आवास योजना में करा रह हैं। उन्होंने आसरा आवास योजना के लिए आवेदन नहीं किया था। इसलिए इस बार उन्हें प्रधानमंत्री आवास योजना में आवेदन कर मकान दिलाने का प्रयास हो रहा है।

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:begging for rent, house not given by government officer
अगर आप भी करते हैं गुड्स ट्रांसपोर्ट तो रहें सावधान....मालगाड़ी के गुजरते ही मीरगंज के पास टूटी पटरी, रोकी गई गाड़ियां