DA Image
3 जुलाई, 2020|3:32|IST

अगली स्टोरी

बरेली के विंग कमांडर सुमित ने भरी लाक डाउन में पहली उड़ान

बरेली के विंग कमांडर सुमित ने भरी लाक डाउन में पहली उड़ान

लाक डाउन के बीच सोमवार से घरेलू विमान सेवाएं शुरू हो गईं। करीब दो महीने के प्रतिबंध के बाद बरेली के विंग कमांडर सुमित यादव को लखनऊ से पहली उड़ान भरने का अवसर मिला। 25 वर्ष तक इंडियन एयरफोर्स को सेवाएं देने वाले सुमित के लिए यह दिन नए अनुभवों से भरा रहा।

कोरोना महामारी के चलते घरेलू और अंतर राष्ट्रीय उड़ानों पर सरकार ने प्रतिबंध लगा दिया था। सोमवार से घरेलू उड़ानों का सिलसिला फिर से शुरू हो गया। सोमवार सुबह 5.35 बजे इंडिगो कंपनी के 6ई0142 विमान ने लखनऊ से अहमदाबाद के लिए पहली उड़ान भरी। इस विमान का नियंत्रण पायलट सुमित यादव के हाथों में था। इस फ्लाइट के बाद सुमित ने दिन में दो और यात्राएं भी पूरी की। हिन्दुस्तान से बात करते हुए उन्होंने बताया कि यह एक नया अनुभव था। 62 दिन बाद उड़ान भरनी थी। हम लोग दो बजे ही एयरपोर्ट पहुंच गए थे। सिक्योरिटी चेक पर ही थर्मल स्कैनिंग हुई। एक एक सामान को सैनिटाइज किया गया। पूरे विमान को भी सैनिटाइज किया गया था। इस तरह के मास्क और गलब्स के साथ पहली बार ही विमान उड़ाया। सभी यात्रियों को भी मास्क और गलब्स पहनने थे। अच्छी बात यह थी कि यात्रियों ने पूरा सहयोग किया। सभी शांत होकर पूरी प्रक्रिया का पालन करते रहे।

कारगिल युद्ध में भी लिया था हिस्सा : विंग कमांडर सुमित यादव ने कारगिल युद्ध में भी भाग लिया था। उस दौरान वो बार्डर के पास सर्विलांस विमान उड़ाकर दुश्मन खेमे की टोह लेते थे। कैंट में वीरांगना चौक के पास उनका घर है। हार्टमन कालेज से 12वीं करने के बाद बरेली कालेज से बीएससी की। 1991 में उनका इंडियन एयरफोर्स में चयन हो गया। उन्होंने एयरफोर्स में विंग कमांडर के पद से रिटायरमेंट लिया। अब छह वर्ष से इंडिगो को अपनी सेवाएं दे रहे हैं। उनकी पोस्टिंग लखनऊ में है। पत्नी विनीता आस्ट्रेलिया में प्रोफेसर हैं। बेटी सोनाक्षी आस्ट्रेलिया में ही एमबीबीएस कर रही हैं।

सेना से रहा है परिवार का करीबी नाता : सुमित के परिवार का सेना से करीबी नाता रहा है। उनके दादा किशन लाल यादव लेफ्टिनेंट थे। वो बरेली राइफल क्लब के फाउंडर रहे हैं। सुमित के बड़े भाई अमित यादव नेवी में पायलट रहे। मेडिकल कारणों से उन्होंने नेवी छोड़ दी थी। उन्होंने शूटिंग की दुनिया में नाम कमाया। इन दिनों रुहेलखंड मेडिकल कालेज में अपनी सेवाएं दे रहे हैं। उनके कई शिष्यों ने शूटिंग की दुनिया में बरेली का नाम रोशन किया है। अमित-सुमित के पिता सीपी यादव डाक्टर थे। 14 ‌‌‌वर्ष पहले उनका निधन हो गया था।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Bareilly Wing Commander Sumit made the first flight in the filled down