DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  खनन रोकने गये एसडीएम के स्टाफ पर हमला, पीटा बंदूक तमंचे ताने

बरेलीखनन रोकने गये एसडीएम के स्टाफ पर हमला, पीटा बंदूक तमंचे ताने

हिन्दुस्तान टीम,बरेलीPublished By: Newswrap
Tue, 01 Jun 2021 03:41 AM
खनन रोकने गये एसडीएम के स्टाफ पर हमला, पीटा बंदूक तमंचे ताने

खनन रोकने गये एसडीएम की गाड़ी के सामने दबंगों ने अपनी गाड़ी लगाकर उन्हें रोक लिया। एसडीएम के स्टाफ पर हमला मारपीट और गाली गलौज की। उन पर तमंचा और लाइसेंसी बंदूक तान दी। किसी तरह स्टाफ के साथ एसडीएम अपनी जान बचाकर भागे। सूचना पर पहुंचे इंस्पेक्टर इज्जतनगर ने एक आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। उनके पास से लाइसेंसी बंदूक बरामद की गई है। चार नामजद व अज्ञात के खिलाफ बलवा, हत्या के प्रयास, जान से मारने की धमकी, एससीएसटी, अवैध खनन करने समेत कई धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया है।

सोमवार सुबह करीब दस बजे एसडीएम सदर विशु राजा अपने स्टाफ के साथ खनन की सूचना पर निकले थे। महानगर के सामने उन्हें मिट्टी से भरी दो ट्राली मिली। उन्होंने ट्रैक्टर रोककर पूछा कि मिट्टी कहां से ला रहे हो। ड्राइवर ने बताया कि रजपुरा माफी में जेसीबी चल रही है। वहां खनन से ट्राली लेकर आ रहे हैं। एसडीएम ने दोनों ट्रालियों को रुहेलखंड पुलिस चौकी पर खड़ा करवा दिया। इसके बाद एसडीएम अपने स्टाफ के साथ रजपुरा माफी में चावड़ गांव के जंगल की ओर गये। खनन कर रहे माफिया जेसीबी लेकर भाग गये। खनन देखकर वह लौट रहे थे। इसी दौरान रजपुरा माफी के रहने वाले मुनीश, ऋषि पाल, लालकरन और उनके पिता नन्हे लाल मिल गये। आरोप है कि उन्होंने अपनी टवेरा गाड़ी को एसडीएम की गाड़ी के आगे लगा दिया। स्टाफ ने कहा कि हम लोग तहसील से आये हैं। एसडीएम साहब गाड़ी में हैं। हमलावर गाली गलौज करने लगे। उन्होंने जान से मारने की नियत से तमंचे से फायर कर दिया। लाइसेंसी बंदूक तान दी। जातिसूचक शब्दों से गाली गलौज की। इसके बाद एसडीएम और उनका स्टाफ वहां से जान बचाकर भागे।

मामले की सूचना पर इंस्पेक्टर इज्जतनगर नीरज सिंह पहुंचे। उन्होंने एक आरोपी मुनीश को गिरफ्तार कर उसके पास से सिंगल बैरल बंदूक बरामद की है। इंस्पेक्टर ने बताया कि एसडीएम के स्टाफ चालक अहलादपुर के मनोज कुमार, होमगार्ड सूरज पाल सिंह और छत्रपाल का मेडिकल परीक्षण कराया गया है। उनके गुम चोटे हैं। उनकी ओर से थाना इज्जतनगर में बलवा, जानलेवा हमला, सरकारी काम में बाधा, जान से मारने की धमकी, खनिज विकास अधिनियम, एससीएसटी और आयुध अधिनियम के आरोप में मुकदमा दर्ज किया गया है। अन्य आरोपियों की गिरफ्तारी को लेकर दबिश दी जा रही है।

--------

खनन माफिया तो मिले नहीं, दबंगों ने दौड़ा लिये एसडीएम

एसडीएम सदर अपने स्टाफ के साथ सोमवार को एक प्राइवेट गाड़ी से खनन देखने गये थे। दरअसल उनका ड्राइवर अहलादपुर इलाके का रहने वाला है। ड्राइवर के गांव से कुछ दूरी पर ही जेसीबी से खनन हो रहा था। एसडीएम अपने ड्राइवर और दो होमगार्ड के साथ पहुंचे। उन्हें जेसीबी दूर से चलती दिखाई दी। इसके बाद खनन माफिया वहां से फरार हो गये। एसडीएम जब रहे थे। रजपुरा माफी में गांव के बाहर एक घर के आगे नन्हेलाल उनका बेटा मुनीश, लालकरन और ऋषिपाल खडे़ थे। उन्होंने एसडीएम की गाड़ी को इशारा कर रुकवाया।

खनन करने वालों को क्यों नहीं पकड़ा, रुपये लिये और चले आये

दबंग पीलीभीत में खजुरिया के रहने वाले हैं। काफी दिनों से रजपुरा माफी गांव के बाहर टिनशेड डालकर रहते हैं। जेसीबी और ट्रैक्टर ट्राली उनका नहीं था। खनन से उनका लेना देना नहीं है। दबंगों के गाड़ी रुकवाते ही एसडीएम के स्टाफ ने कहा क्या हो गया। दबंग बोले, खनन करने वालों को क्यों नहीं पकड़ा।

स्टाफ- इससे तुम्हारा क्या मतलब, वह लोग भाग गये

दबंग- भाग गये कि भगा दिये। रुपये लेकर खनन करवा रहे हो। पूरा इलाका खनन माफियाओं ने खोद डाला।

ड्राइवर - गुस्से में, उसने कहा कि जानते हो एसडीएम साहब अंदर बैठे हैं

दबंग- क्या करें एसडीएम अंदर हैं, सब मिलकर खनन करवा रहे हो

ड्राइवर- सही से बात करो, दबंग बोले क्या कर लोगे। इसके बाद दोनों पक्षा में कहासुनी बढ़ गई। नोकझोंक मारपीट और गाली गलौज हो गई।

-----------

एसडीएम पर पहले भी हो चुका है हमला

एसडीएम सदर विशु राजा चार्ज लेने के बाद ही इज्जतनगर इलाके में खनन को रोकने गये थे। इसी दौरान चालक ने एसडीएम व उनके स्टाफ के ऊपर ट्रैक्टर चढ़ाने की कोशिश की थी। इस मामले में भी थाना इज्जतनगर में जानलेवा हमले का मुकदमा दर्ज किया गया था। आरोपी को गिरफ्तार कर जेल भेजा था उसका ट्रैक्टर और जेसीबी सीज की गई थी।

संबंधित खबरें