DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

शहर के नामी परफ्यूम कारोबारी पर भीड़ का हमला

शहर के नामी परफ्यूम कारोबारी पर भीड़ का हमला

शहर के जाने-माने परफ्यूम कारोबारी गौरव मित्तल पर शुक्रवार रात लाठी-डंडों से लैस 30-40 लोगों ने हमला कर दिया। कुछ लोगों की मदद से गौरव ने किसी तरह भागकर जान बचाई। इसके बाद वह शिकायत लेकर पुलिस के पास पहुंचे, मगर दरोगा ने दहशरे में व्यस्त होने की बात कहकर दूसरे दिन आने को कह दिया। शनिवार को भी मामले में रिपोर्ट दर्ज नहीं की गई।

सिंधुनगर निवासी गौरव मित्तल की सीबीगंज में एरोमेटिक एंड एलाइड केमिकल्स के नाम से फैक्ट्री है। वह परफ्यूम का कारोबार करने के साथ ही तमाम गांवों के किसानों से जैविक खेती भी करा रहे हैं। गौरव ने बताया कि शुक्रवार को उनकी मां गीता मित्तल, पत्नी राजुल गर्ग और बच्चे मौसी के घर रामपुर गार्डन गए थे। शाम सात बजे वह बच्चों को लेने रामपुर गार्डन जा रहे थे। सिंधुनगर गेट से कुछ ही दूरी पर घात लगाकर बैठे 30-40 लोगों ने उनकी गाड़ी रोक ली। इसी बीच एक शख्स ने गाड़ी की चाभी निकाल ली और गौरव को बाहर खींचकर पीटने लगा। शोर सुनकर कुछ लोग मदद के लिए पहुंचे और गौरव को चाभी दिलाकर वहां से रवाना कर दिया। मगर आरोपियों ने ईसाइयों की पुलिया पर फिर गौरव को घेर लिया। गौरव ने शोर मचाने के लिए गाड़ी का शीशा खोला तो एक शख्स ने उनके मुंह पर घूंसा जड़ दिया। आसपास मौजूद लोगों ने हमलावरों को खदेड़कर गौरव को वहां से निकाला।

इस दौरान गौरव ने बताया कि मेरी किसी से कोई दुश्मनी नहीं है। शुक्रवार रात जो हुआ, उससे मैं और मेरा परिवार डरा हुआ है। मैंने दरोगा को तहरीर दी थी। उन्होंने शनिवार को मामले में छानबीन करने और रिपोर्ट दर्ज करने का भरोसा दिलाया था। शनिवार को वह न तो घर आए, न ही मेरा फोन उठाया। फिर भी मुझे पुलिस से इंसाफ की उम्मीद है। थाने वालों ने नहीं सुनी तो उद्यमियों के साथ एसएसपी से मिलने जाऊंगा। वही एसपी सिटी अभिनंदन सिंह का कहना है कि उद्यमी ने अगर जानलेवा हमले की शिकायत की थी तो पुलिस को तुरंत कार्रवाई करनी चाहिए थी। मौके पर कौन दरोगा था, इस बारे में थाने से पता किया जाएगा। शनिवार को भी दरोगा ने घटना को हल्के में क्यों लिया, इसकी जांच की जा रही है। रविवार को पुलिस टीम को कारोबारी के घर भेजा जाएगा। रिपोर्ट दर्ज करके आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

दरोगा बोले, आज व्यस्त हूं कल आना

इसके बाद गौरव सीधे मौसी के घर पहुंचे और मां, पत्नी व बच्चों को लेकर घर आए। उन्होंने मां और पत्नी को पूरी घटना बताई। परिजनों की सलाह पर गौरव पुलिस के पास पहुंचे। कटरा चांद खां में मौर्या मंदिर के पास दशहरा मेला लगा था। वहां मौजूद जगतपुर चौकी इंचार्ज को गौरव ने घटना के बारे में बताया और लिखित तहरीर दी। गौरव का कहना है कि दरोगा ने मेले में व्यस्त होने का हवाला देकर उन्हें लौटा दिया और शनिवार को बात करने को कहा। अगले दिन उन्होंने दरोगा को फोन मिलाया, मगर फोन नहीं उठा।

घटना के बाद सहमा है परिवार

गौरव ने बताया कि घटना के बाद से वह और उनका परिवार सहमा हुआ है। भीड़ ने जिस तरह अचानक हमला किया, उससे लग रहा था कि लोग पहले से योजना बनाए बैठे थे। अगर समय पर लोग मदद को नहीं आते तो उनके साथ कुछ भी हो सकता था। दशहरे की वजह से सड़क पर काफी चहल-पहल थी, इस वजह से भी हमलावर अपने मकसद में कामयाब नहीं हो पाए। गौरव ने बताया कि हादसे के बाद से उनकी मां बेहद परेशान हैं। उनकी तबियत भी ठीक नहीं है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Attack on city s famous perfume businessman assault bareilly news UP