DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  नाप के दे दिया अक्षर विहार, दोबारा क्यों होगी पैमाइश

बरेलीनाप के दे दिया अक्षर विहार, दोबारा क्यों होगी पैमाइश

हिन्दुस्तान टीम,बरेलीPublished By: Newswrap
Tue, 01 Jun 2021 03:32 AM
सिविल लाइंस के अक्षर विहार तालाब की 22 जनवरी को 2191 वर्ग मीटर जमीन प्रशासन और नगर निगम की टीम ने कब्जा मुक्त कराई थी। प्रशासन ने उसी दिन जमीन की...
1 / 2सिविल लाइंस के अक्षर विहार तालाब की 22 जनवरी को 2191 वर्ग मीटर जमीन प्रशासन और नगर निगम की टीम ने कब्जा मुक्त कराई थी। प्रशासन ने उसी दिन जमीन की...
सिविल लाइंस के अक्षर विहार तालाब की 22 जनवरी को 2191 वर्ग मीटर जमीन प्रशासन और नगर निगम की टीम ने कब्जा मुक्त कराई थी। प्रशासन ने उसी दिन जमीन की...
2 / 2सिविल लाइंस के अक्षर विहार तालाब की 22 जनवरी को 2191 वर्ग मीटर जमीन प्रशासन और नगर निगम की टीम ने कब्जा मुक्त कराई थी। प्रशासन ने उसी दिन जमीन की...

सिविल लाइंस के अक्षर विहार तालाब की 22 जनवरी को 2191 वर्ग मीटर जमीन प्रशासन और नगर निगम की टीम ने कब्जा मुक्त कराई थी। प्रशासन ने उसी दिन जमीन की निशानदेही कराकर नगर निगम को हैंडओवर कर दी। करीब चार महीने बाद अपर नगरायुक्त ने एक बार फिर अक्षर विहार तालाब की पैमाइश के लिए तहसील सदर पत्र भेज दिया। डीएम ने दोबारा पैमाइश कराने से साफ इनकार कर दिया।

तालाब की जमीन पर बाउंड्रीवॉल बनाने के निर्देश कमिश्नर ने नगर निगम को दिए हैं। ताकि तालाब की जमीन पर फिर से अवैध कब्जे न हो सकें। बांउड्री बनाने के लिए नगर निगम के चीफ इंजीनियर ने मौके पर जांच की। तालाब और मकानों के बीच निशानदेही चीफ इंजीनियर को नजर नहीं आई। जबकि कब्जा मुक्त कराने के बाद प्रशासन ने तालाब और मकानों के बीच में पत्थरों पर चूना डालकर निशान लगवाए थे। कुछ जगह पर जेसीबी से खाई खोद दी गई थी। जबकि तालाब की जमीन पर बने टॉयलेट तोड़े गए थे। अपर नगर आयुक्त ने तहसील सदर को चिट्ठी लिखकर एक बार फिर मकान और तालाब के बीच निशानदेही कराने को कहा है। अपर नगरायुक्त के पत्र को लेकर प्रशासनिक अधिकारी भी खफा हैं। फोटो-वीडियो और फील्डबुक होने के बावजूद अपर नगरायुक्त की पत्र को लेकर सवाल भी उठ रहे हैं।

प्रशासन की टीम ने अक्षर विहार की पैमाइश कराकर जमीन नगर निगम को हैंडओवर की जा चुकी है। बार-बार पैमाइश का कोई औचित्य नहीं है।- नितीश कुमार, डीएम

संबंधित खबरें