DA Image
13 जुलाई, 2020|2:26|IST

अगली स्टोरी

बैंक धोखाधड़ी की बढ़ती घटनाओं पर बोले एडीजी, इंटरनेट अपराधों पर नकेल कसेगा साइबर थाना

adg bareilly

उत्तर प्रदेश के बरेली मंडल में बढ़ रहे अपराधों की रोकथाम के लिए साइबर थाना खोला गया है। बैंक धोखाधड़ी से लेकर बढ़ते साइबर क्राइम को कंट्रोल करने के लिये रेंज मुख्यालय पर साइबर थाना बनाया गया।  सोमवार को एडीजी जोन अविनाश चंद्र ने बरेली पुलिस लाइन में साइबर थाने का उद्घाटन किया। डीआईजी रेंज राजेश पांडेय खुद साइबर थाने की मानीटरिंग करेंगे। रेंज के चारो जिलों में इंटरनेट और आईटी एक्ट से जुड़े सभी मामलों में यहीं मुकदमा दर्ज किया जायेगा। एडीजी अविनाश चंद्र ने कहा कि इंटरनेट जनित अपराधों पर साइबर थाना अब नकेल कसेगा।

ऑनलाइन ठगी, बैंकों से धोखाधड़ी, एटीएम पिन पूछकर फ्राड, फेसबुक, व्हाट्सएप, इंस्ट्राग्राम जैसे सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर आपत्तिजनक टिप्पणी जैसे अपराधों से निपटने के लिए बरेली पुलिस हाइटेक हो गई है। सोमवार को पुलिस लाइन में बरेली रेंज का पहला साइबर थाना खोला गया है। इसमें बरेली, पीलीभीत, शाहजहांपुर और बदायूं में होने वाले साइबर ठगी के मुकदमे दर्ज किये जायेंगे। उनकी विवेचना भी साइबर क्राइम थाने के दरोगा और इंस्पेक्टर करेंगे। साइबर थाने की अलग जीडी और मुकदमे होंगे।

रेंज के चारो जिलों में कहीं भी आईटी एक्ट का मुकदमा दर्ज किया जाता है तो उसे साइबर थाने को ट्रांसफर कर सकेंगे। उदघाटन के दौरान एसएसपी शैलेश कुमार पांडेय, एसपी सिटी रविन्द्र कुमार, एसपी ग्रामीण संसार सिंह, एसपी ट्रैफिक सुभाषचन्द्र गंगवार, एसपी क्राइम रमेश कुमार भारतीय थे।

एडवांस सॉफ्टवेयर और एक्सपर्ट के जरिये कसेंगे लगाम

बरेली। डीआईजी रेंज राजेश कुमार पांडेय ने बताया की चारो जिलों में साइबर क्राइम के जो मामले आ रहे थे। अलग अलग जगहों पर निस्तारण में दिक्कत हो रही थी। प्रदेश के सभी रेंज मुख्यालयों पर साइबर क्राइम थाने खुले हैं। आधुनिक सॉफ्टवेयर से लैस मेन यूनिट लखनऊ  और नोएडा में हैं। साइबर क्राइम पुलिस के लिये नया चैलेंज है। नाइजीरियन सबसे ज्यादा फ्राड में एक्टिव हैं। एडवांस साफ्टवेयर और एक्सपर्ट के जरिये साइबर अपराधियों पर लगाम कसेंगे। 

फेक न्यूज़, बैंक धोखाधड़ी करने वालों की खैर नहीं

एडीजी जोन अविनाश चंद्र ने कहा कि फेक न्यूज़ और बैंक धोखाधड़ी करने वालों की अब खैर नहीं है। किसी ने कोई भी फेक उल्टी सीधी पोस्ट डाल दी। किसी का पैसा खाते से निकल गया। ऐसे सभी मामलों की एफआईआर साइबर थाने पर दर्ज होगी। प्रोफेशनल और आईटी एक्सपर्ट लोगों की साइबर थाने में तैनाती की गई है। 
 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:ADG said - Cyber police station will be tightened on Internet crimes