DA Image
11 अप्रैल, 2021|4:03|IST

अगली स्टोरी

विधायक पप्पू भरतौल की शिकायत पर जांच करने पहुंचे अपर आयुक्त बोले, तुम अपने घर में भी ऐसे ही काम करते हो, नौकरी करना भूल जाओगे 

श्यामा प्रसाद मुखर्जी रूर्बन मिशन योजना में चल रहे निर्माण कार्यों की जांच करने आए अपर आयुक्त मनरेगा योगेश कुमार गांवों में गड़बडियों का पिटारा देखकर भड़क गए। उन्होंने गांवों में बिना योजना बनाए काम करने पर अफसरों को फटकार लगाई और सुधरने की हिदायत दी। ओवरहेड टैंक से पेयजल सप्लाई के लिए बनाई गई टंकियों को देखकर वह जल निगम व मनरेगा के अफसरों पर बिगड़ गए। उन्होंने अफसरों से पूछा, तुम अपने घर में भी ऐसे ही काम करते हो। कोई जवाब न मिलने पर हिदायत दी कि अगर शासन की प्राथमिकता वाले कामों में ढिलाई और मनमानी की तो नौकरी करना भूल जाओगे। 

20 सितंबर को मुख्यमंत्री की समीक्षा बैठक के दौरान बिथरी विधायक पप्पू भरतौल ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से पंडित श्यामा प्रसाद मुखर्जी रूर्बन मिशन में चुने गए गांवों में मनमाने ढंग से काम कराए जाने की शिकायत की। उन्होंने कहा गांवों के विकास के लिए 100 करोड़ रुपये मंजूर हुए हैं। सरकारी अमला विकास कार्यों के नाम पर पैसे की बर्बादी कर रहा है। विधायक की शिकायत पर मुख्यमंत्री ने जांच टीम भेजने भरोसा दिलाया था। गुरुवार को शासन ने अपर आयुक्त मनरेगा योगेश कुमार को बरेली भेजा। दोपहर करीब तीन बजे अपर आयुक्त प्रशासन की टीम के साथ बिथरी के गांव फरीदापुर इनायत खां पहुंचे। उनके साथ बिथरी विधायक पप्पू भरतौल भी थे। उन्होंने सबसे पहले गांव में बन रहे रिक्शा स्टैंड का फर्श देखा। जरा सी खुदाई करने पर फर्श टूट गया। उसके अंदर रोड़ा भी नहीं मिला।

अपर आयुक्त ने टीएसी ने फर्श की निर्माण सामग्री का सैंपल लेने को कहा।  इसके बाद उन्होंने गांव में लोगों को साफ पानी उपलब्ध कराने के लिए लगे आरओ प्लांट और उसकी टंकियों को देखा। टंकी काफी दूर थी। उसकी ऊंचाई काफी अधिक थी और उसमें से पानी भी टपक रहा था। इस पर वह काम कराने वाले जेई पर जमकर नाराज हुए। पूछा कि इतने ऊंचे नल पर बच्चे पानी कैसे पियेंगे। अफसरों को कोई जवाब नहीं सूझा। उन्होंने ग्राम पंचायत सचिव से पूछा कि निधि में कितना पैसा है। जवाब मिला 2.90 लाख। इस पर वह फिर नाराज हुए और कहा कि इतने पैसे होने के बावजूद एक नल की लीकेज ठीक नहीं करा सकते। गांव में ओवरहेड टैंक के पास लगी सोलर लाइट में भी खराबी मिली। 

आरओ प्लांट का टूटा हुआ फर्श देखकर चढ़ा पारा 

गांव के अंदर आरओ प्लांट के बेस का फर्श टूटा हुआ देखकर उनका पारा हाई हो गया। आरओ प्लांट को देखकर लग रहा था कि काफी समय से उसके पानी की जांच नहीं हुई है। उन्होंने जल निगम वालों को लताड़ लगाई। पूछा कि यह कैसा काम है। क्या अफसर अपने घर में भी ऐसा ही काम कराते हैं। बात यहीं खत्म नहीं हुई। आरओ प्लांट की बदहाली देखकर उन्होंने जेई से पूछा, तुम अपने घर में क्या ऐसा ही पानी पीते हो, तुम्हारे घर के पानी का टीडीएस क्या है। जेई ने जवाब दिया कि वह नल का पानी पीते हैं तो अपर आयुक्त ने कहा कि जरा इसका पानी पीकर दिखाओ। अपर आयुक्त ने कहा कि विकास कार्यों के नाम पर भ्रष्टाचार बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। अफसर बिना लालच और स्वार्थ के काम कराएं। तभी सरकार की मंशा पूरी होगी। गांव के दौरे के बाद उन्होंने बिथरी में हाइवे किनारे बन रहे हाट बाजार को देखा। उन्होंने कहा कि काम को जल्दी पूरा किया जाए। 

नाले की चौड़ाई पर भटके, ईंटों की होगी जांच 
उड़ला जागीर गांव में बन रहे नाले की चौड़ाई पर उन्होंने नाराजगी जताई। अफसरों से कहा कि बिना प्लानिंग के कहीं भी काम न कराया जाए। नाला बनने में इस्तेमाल हो रही ईंटों और मसाले की जांच के आदेश दिए। उन्होंने कहा कि शासन की योजनाओं को अफसर संजीदगी से लें और योजनाबद्ध तरीके से काम करें। जिससे लोगों को लंबे समय तक उसका लाभ मिल सके। अंत में वह नरियावल पहुंचे। उन्होंने कम्युनिटी हॉल का निरीक्षण किया और बरेली लौट गए। 

एसी मनरेगा के तेवरों से अफसरों में मचा रहा हड़कंप 
एसी मनरेगा के तेवरों से अफसरों में हड़कंप मचा रहा। गांव में अफसरों ने कुछ ग्रामीणों से अपने पक्ष में बात कराने की कोशिश की मगर वह पूरे माजरे को पहले ही भांप गए। उन्होंने एक-एक चीज को खुद देखा और जहां-जहां गड़बड़ी लगी वहां टीएसी से सैंपल लेकर जांच करने को कहा। 

प्रधान बोले, साहब जल निगम ने मनमाने ढंग से किया काम 
एसी मनरेगा के सामने प्रधानों ने जल निगम की शिकायत की। उन्होंने कहा कि जल निगम के अफसरेां ने पानी के ओवरहेड टैंक और गांवों गांवों में टंकियां मनमाने ढंग से बना दी हैं। जल निगम काम करके चला गया। अब टैंकों की देखरेख ग्राम पंचायत को करनी है। मगर, इसके लिए बजट नहीं है। प्रधानों ने कहा कि निर्माण के बाद कम से कम पांच साल तक प्रधानों को इसकी देखरेख का जिम्मा दिया जाए।

एसी मनरेगा ने बिथरी के तीन गांवों में निर्माण कार्यों से संबंधित जांच की। उन्होंने मनमाने ढंग से काम करने पर नाराजगी जताई और अफसरों को योजनाबद्ध तरीके से काम करने के निर्देश दिए। जहां-जहां जरूरी लगा उन्होंने टीएसी से सैंपलिंग भी कराई। रिक्शा स्टैंड, मंडी और नाला निर्माण में लगी सामग्री के सैंपल लिए गए हैं। उन्होंने प्रधानों के साथ तालमेल बनाकर काम करने के आदेश दिए हैं। उनके सभी आदेशों पर जल्द सख्ती से अमल कराया जाएगा।
चंद्रमोहन गर्ग, सीडीओ 

समीक्षा बैठक में मैंने मुख्यमंत्री ने रूर्बन मिशन के गांवों में विकास के नाम पर हो रही धांधली रोकने की मांग की थी। मैं उनका शुक्रगुजार हूं कि उन्होंने शासन से अपर आयुक्त मनरेगा को बरेली भेजा। अपर आयुक्त के सामने काम के नाम पर मनमानी कर रहे अफसरों की पोल खुल गई। उन्होंने गड़बड़ी करने वालों को जमकर फटकार लगाई और गड़बड़ी करने वालों को सुधरने की हिदायत दी। मैंने अपने क्षेत्र में रूर्बन मिशन के काम कराने के लिए 100 करोड़ रुपये मंजूर कराए थे। इस मिशन में चुने गए सभी 13 गांवों में अफसरों को पूरी ईमानदारी से काम करना होगा। 
पप्पू भरतौल, बिथरी चैनपुर विधायक 
 


  

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:additional commissioner reached bareilly on the orders of chief minister yogi adityanath