DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  दुराचार के आरोपी चपरासी ने फांसी लगाकर जान दी, पत्नी ने लगाया जेठ पर आरोप
बरेली

दुराचार के आरोपी चपरासी ने फांसी लगाकर जान दी, पत्नी ने लगाया जेठ पर आरोप

हिन्दुस्तान टीम,बरेलीPublished By: Newswrap
Sat, 26 Sep 2020 07:02 PM
नवाबगंज में दुराचार के मुकदमें में सजा से बचाने के नाम पर दबंगों ने एक चपरासी से ढाई लाख रुपए की मांग शुरु कर दी। जिसे लेकर वह उसे आए दिन प्रताड़ित करने लगे। जिससे परेशान चपरासी ने शुक्रवार की रात...
1 / 2नवाबगंज में दुराचार के मुकदमें में सजा से बचाने के नाम पर दबंगों ने एक चपरासी से ढाई लाख रुपए की मांग शुरु कर दी। जिसे लेकर वह उसे आए दिन प्रताड़ित करने लगे। जिससे परेशान चपरासी ने शुक्रवार की रात...
नवाबगंज में दुराचार के मुकदमें में सजा से बचाने के नाम पर दबंगों ने एक चपरासी से ढाई लाख रुपए की मांग शुरु कर दी। जिसे लेकर वह उसे आए दिन प्रताड़ित करने लगे। जिससे परेशान चपरासी ने शुक्रवार की रात...
2 / 2नवाबगंज में दुराचार के मुकदमें में सजा से बचाने के नाम पर दबंगों ने एक चपरासी से ढाई लाख रुपए की मांग शुरु कर दी। जिसे लेकर वह उसे आए दिन प्रताड़ित करने लगे। जिससे परेशान चपरासी ने शुक्रवार की रात...

नवाबगंज में दुराचार के आरोपी स्कूल के चपरासी ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। उसकी पत्नी ने मृतक के भाई समेत दो लोगों पर मुकदमे में समझौता कराने के नाम पर ढाई लाख रुपये मांगने का आरोप लगाया है। पत्नी की तहरीर पर पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी।

भुता थाना क्षेत्र के विशेसरपुर गांव के देवराज (37) अमशाह गांव के पूर्व माध्यमिक विद्यालय में चपरासी थे। वह अपनी पत्नी और बच्चों के साथ कस्बे के मोहल्ला आदर्श नगर में किराए के मकान में रहते थे। वर्ष 2017 में एक महिला ने उन पर भुता में दुराचार का मुकदमा दर्ज कराया था जिसमें वह जेल भी गए थे। उनकी पत्नी मीना देवी का आरोप है कि कोर्ट से जमानत पर छूटने के बाद रघुनाथपुर गांव का कालीचरन और उनके जेठ राजू उनसे मुकदमे में सजा से बचाने के नाम पर ढाई लाख रुपये की मांग कर रहे थे। इसको लेकर वह उन्हें तरह-तरह से प्रताड़ित करते थे। 23 सितम्बर को आरोपी उनके विद्यालय पहुंचे और उनसे रुपये मांगे जिस पर विद्यालय के अध्यापकों ने उन्हें पुलिस बुलाने की धमकी दी तो वह स्कूल से चले गए। शुक्रवार शाम वह सामान लेने के लिए बाजार गए थ। रास्ते में उन्हें आरोपी मिल गए। शनिवार तक रुपए देने के लिए खूब हड़काया जिससे परेशान होकर उन्होंने रात में ही अपने कमरे में लगे कुंडे में दुपट्टे का फंदा लगा फांसी लगा ली। शनिवार सुबह पत्नी उन्हें जगाने गयी तो फंदे में लटकता शव देख चीख पड़ी। सूचना पर पुलिस फोर्स के साथ पहुंचे सीओ और कोतवाल ने घटना स्थल का निरीक्षण कर शव पोस्टमार्टम के लिए भिजवाया। कोतवाल सुरेन्द्र सिंह पचौरी ने बताया कि मृतक की पत्नी की तहरीर पर मुकदमा दर्ज कर लिया गया है।

संबंधित खबरें