DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हत्यारोपी पिता-पुत्र को सश्रम आजीवन कारावास

विशेष न्यायाधीश देवेंद्र सिंह की विशेष कोर्ट ने धौराटांडा में विवाद में अकील की हत्या के मामले में हत्यारोपी बाप-बेटे को सश्रम आजीवन कारावास की सजा सुनाई। इन पर 31-31 हजार का जुर्माना भी लगा। एडीजीसी अखिलेश सक्सेना ने बताया कि धौराटांडा के रेहान ने थाना भोजीपुरा में रिपोर्ट लिखाई थी। आरोप था कि उसके पिता अकील अहमद ने लूडो खेलने को लेकर मोहल्ले के अब्दुल रहमान की शिकायत पुलिस से कर दी थी। इसी रंजिश में 24 जुलाई 2011 की रात साढ़े 11 बजे बाबू, उसके बेटे अब्दुल रहमान व नाबालिग बेटे ने मस्जिद के पास अकील को घेर लिया। इसके बाद बाबू ने अकील के सीने में भाला झोंप दिया। रेहान ने बचाने का प्रयास किया तो हमलावरों ने छुरियों से उस पर भी हमला कर दिया। अकील की इलाज के दौरान मौत हो गई। हत्यारोपी के नाबालिग बेटे के केस की सुनवाई किशोर न्यायालय में विचाराधीन है। बाबू व अब्दुल रहमान के खिलाफ विशेष कोर्ट में सुनवाई हुई। आरोप साबित करने को एडीजीसी ने 14 गवाह पेश किए। कोर्ट ने दोनों को सश्रम आजीवन कारावास की सजा सुनाई।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Life imprisonment for father and son