DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गांव-गांव चैंपियन डालेंगे डेरा, बताएंगे सफाई के गुर

बरेली के गांवों को खुले में शौच से मुक्त करने के लिए प्रशासन ने रणनीति बनाई है। अब गांव-गांव चैंपियन डेरा डालेंगे। गांव में रहकर ग्रामीणों को साफ सफाई के बारे में जागरूक करेंगे। नुक्कड़ नाकट और नुक्कड़ मीटिंग के जरिए गांववालों को खुले में शौच के नुकसान बताएंगे। जिला पंचायती राज विभाग ने गांवों में चैंपियन की तैनाती शुरू कर दी है। स्वच्छ भारत अभियान की हालात बरेली में खराब है। 1193 ग्राम पंचायतों में सिर्फ 41 ही अभी तक ओडीएफ हो चुके हैं। सरकार ने अगले साल अक्तूबर तक पूरे जिले को खुले में शौच से मुक्त करने के लक्ष्य दिया है। ऐसा न करने पर कार्रवाई की चेतावनी दी है। अगले साल सिंतबर तक 2.5 लाख शौचालयों का निर्माण भी पंचायती राज विभाग को कराना है। पंचायती राज विभाग ने ओडीएफ में तेजी लाने के लिए चैंपियानों को गांव-गांव भेजने का फैसला किया है। चैंपियनों की नियुक्ति शुरू कर दी है। चैंपियनों को केंद्र की मदद से जागरूक करने के ट्रेनिंक दी जाएगी। 15 दिन की ट्रेनिंग के बाद चैंपियनों को गांवों में भेजा जाएगा। कई गांवों में चैंपियन भेज दिए हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Champion will stop defecation in villages