DA Image
Sunday, December 5, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेश बाराबंकीबाराबंकी-लक्ष्मण ने कभी नहीं सहा श्रीराम का अपमान

बाराबंकी-लक्ष्मण ने कभी नहीं सहा श्रीराम का अपमान

हिन्दुस्तान टीम,बाराबंकीNewswrap
Sun, 14 Nov 2021 10:15 PM
बाराबंकी-लक्ष्मण ने कभी नहीं सहा श्रीराम का अपमान

हैदरगढ़। कस्बे के समीप बाबा प्रेम दास कुटी पर आयोजित मानस सम्मेलन के आठवें दिन रविवार को मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान राम के अनुज लक्ष्मण के चरित्र पर व्याख्यान हुआ।

मानस विद्वान उमेश तिवारी जिज्ञासु ने कहा कि लक्ष्मण भगवान राम के अनन्य भक्त थे। उन्होंने जीवन पर्यंत तक कभी भी श्रीराम का अपमान नहीं सहा। श्री जिज्ञासु जी ने कहा कि लक्ष्मण को जब भी यह भान हुआ कि रामजी का कोई अपमान कर रहा है। उन्होंने उसका प्रतिरोध किया। चाहे वह भगवान परशुराम रहे हो या फिर जनक अथवा समुद्र। उन्होंने बताया कि लक्ष्मण जी का अधिकांश समय श्रीराम के साथ ही व्यतीत हुआ। गेरावां मठ के महंत कृष्णानंद भारती ने कहा कि व्यक्ति को आचार्य, संत एवं अपने से श्रेष्ठ व्यक्ति के पास हमेशा ही सह्रदयता के साथ जाना चाहिए। आचार्य यजमान के लिए सम्पूर्ण व्यवस्था करता है। उन्होने दशानन रावण के द्वारा रामेश्वरम स्थापना की कथा विस्तार से सुनाई। इस दौरान मानस कथा में मानस मर्मज्ञ अजय शास्त्री, हरिनारायण तिवारी अवधी सम्राट आदि कई विद्वानों ने भी अपने विचार प्रकट किए। इस मौके पर जगदीश सिंह,पन्ना लाल प्रेमी,मोती बाबा,राम तीरथ दास,भगवती आचार्य,हनुमान प्रसाद, सामाजिक कार्यकर्ता कृष्ण कुमार द्विवेदी राजू भैया एवं श्रीमती राजवती द्विवेदी आदि मौजूद रहे।

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें