DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  बांदा  ›  बजट के इंतजार में 10 साल से दो पुल अधर में लटके
बांदा

बजट के इंतजार में 10 साल से दो पुल अधर में लटके

हिन्दुस्तान टीम,बांदाPublished By: Newswrap
Thu, 17 Jun 2021 05:50 AM
बजट के इंतजार में 10 साल से दो पुल अधर में लटके

बांदा। वरिष्ठ संवाददाता

जिले में दो पुलों का निर्माण कार्य इतना धीमा है कि 10 साल बाद पूरा नहीं हो सका। वजह बार-बार झोली में बजट की कमी रही। पांच और पुल हैं, जो बजट के इंतजार में आधे-अधूरे पड़े हैं। सभी पुल उप्र सेतु निगम की ओर से बनाए जा रहे हैं।

आरटीआई कार्यकर्ता कुलदीप शुक्ला की मांगी जानकारी के मुताबिक, फतेहपुर-करतल मार्ग स्थित यमुना नदी के अगौसी घाट पर 13 सितंबर 2011 में पुल स्वीकृत हुआ था। सेतु निगम की ओर से बताया गया कि 28 फाउनंडेशन तैयार हो गए हैं। पुनरीक्षित स्वीकृति में शासन से 5097 लाख रुपए प्राप्त हुए हैं। 268.26 लाख शासन से आवंटन शेष है। अब तक 91 प्रतिशत काम हुआ है। वहीं, इसी साल बांदा-बबेरू मार्ग स्थित मर्काघाट पर पुल स्वीकृत हुआ था। पुल के 32 फाउंडेशन तैयार हो गए हैं। पुल निर्माण के लिए सेतु निगम से पुनरीक्षित बजट 8780.92 लाख का बजट शासन को भेजा गया था। 3894.86 लाख रुपए प्राप्त हुए। 3135.16 लाख रुपए आवंटन शेष है। अब तक 71 प्रतिशत काम ही हो सका है।

पुनरीक्षण के कारण बंद था कार्य: कमासिन ब्लॉक के ममसी के पास ओरा-ममसी मार्ग के बागेन नदी पर मार्च 2016 में पुल स्वीकृत हुआ। पांच फाउंडेशन तैयार हैं। तीन और बनने हैं। शासन से सेतु निगम को 1449.89 लाख रुपए प्राप्त हुए हैं। 76.31 लाख का आवंटन शेष है। पुनरीक्षण के कारण पुल निर्माणकार्य बंद था। बीते वर्ष सितंबर से काम शुरू किया गया है।

यहां भी बजट का झंझट:नरैनी-कालिंजर और झांसी-मिर्जापुर मार्ग को जोड़ने के लिए नए बाईपास निर्माण में आनेवाले चार लेन रेल उपरिगामी पुलिस सितंबर 2016 को स्वीकृत हुआ था। रेलवे पोर्सन सहित 19 फाउंडेशन तैयार हैं। शासन से सेतु निगम को 4286.87 लाख प्राप्त हो चुके हैं। 874.22 लाख बजट शेष है। ऐसे ही नरैनी रोड से बांदा महोबा रोड तक निर्माणाधीन रिंग रोड में पड़नेवाले केन नदी के राजघाट पर चार लेन पुल निर्माण की स्वीकृति 2016 में हुई थी। नौ फाउंडेशन तैयार हैं। 11 शेष हैं। 3956.46 लाख का बजट मिल चुका है। 2040.56 लाख का बजट आवंटन शेष है। इसी प्रकार भदावल-भैसौधा मार्ग के बीच बागेन नदी पर स्वीकृत पुल भी बजट के अभाव में पूरा नहीं हो सका है। इसकी स्वीकृति मार्च 2019 में हुई थी।

संबंधित खबरें