DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पीएचसी में कहीं अव्यवस्थाएं हावी तो कहीं डाक्टर ही नहीं

पीएचसी में कहीं अव्यवस्थाएं हावी तो कहीं डाक्टर ही नहीं

ग्रामीण क्षेत्रों में खुले स्वास्थ्य केन्द्रों से लोगों को उपचार की सुविधाएं नहीं मिल पा रही है। कहीं डाक्टरों का अभाव है तो कहीं दवाएं नहीं है। कहीं मशीनों का रोना बना हुआ है। करतल और कालिंजर गांव के नए प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र का हाल कुछ ऐसा ही है। यहां पर डाक्टर के स्थानान्तरण हो जाने के बाद यह केन्द्र खुल बीमार हो गया है। डाक्टर के अलावा अव्यवस्थाएं भी हावी है। ऐसे में लोगों को उपचार के लिए सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र या फिर जिला अस्पताल जाना पड़ रहा है।

ग्रामीणों तक स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए लाखों रुपए खर्च किए जा रहे है। जगह जगह सीएचसी व पीएचसी केन्द्र संचालित किए जा रहे है। लेकिन अधिकांश सीएचसी व पीएचसी केन्द्रों डाक्टरों का अभाव बना रहता है। करतल और कालिंजर के प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र में जहां अव्यवस्थाएं हावी है वहीं डाक्टरों का अभाव बना हुआ है। क्षेत्र के लोगों को उपचार के लिए नरैनी के सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र व जिला अस्पताल जाना पड़ता है। करतल नया प्राथरमिक स्वास्थ्य केन्द्र की बिजली लम्बे समय से खराब पड़ी हुई है। ऐसा ही गुढा, फतेहगंज में डाक्टरों का अभाव है। जहां डाक्टरों की तैनाती है वहां समय से डाक्टर बैठते नहीं है। प्रदुम्न द्विवेदी, कमलाकान्त द्विवेदी, इरशाद भाई आदि का आरोप है कि स्वास्थ्य केन्द्रों से सुविधाएं नहीं मिल पा रही है। मांग की है कि डाक्टरों की तैनाती कराकर नियमित केन्द्र में उपस्थित रहकर मरीजों का उपचार कराया जाए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: There is no disorder in PHC anywhere so do not be a doctor